कप्तान मिताली राज (Mithali Raj) के करियर के 56वें अर्धशतक के बावजूद भारतीय महिला टीम इंग्लैंड के खिलाफ पहले वनडे मैच में रविवार को ब्रिस्टल में आठ विकेट पर 201 रन का स्कोर खड़ा किया। इंग्लैंड के सामने जीत के लिए 202 रन का आसान लक्ष्य है।Also Read - कोविड से उबरकर इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच में खेल सकते हैं भारतीय कप्तान रोहित शर्मा

महिला वनडे में सर्वाधिक रन बनाने वाले मिताली ने 10वें ओवर में क्रीज पर कदम रखा तथा 108 गेंदों पर 72 रन बनाये जिसमें सात चौके शामिल हैं। उन्होंने पूनम राउत (61 गेंदों पर 32 रन) के साथ तीसरे विकेट के लिये 94 गेंदों पर 56 और दीप्ति शर्मा (46 गेंदों पर 30) के साथ पांचवें विकेट के लिये 85 गेंदों पर 65 रन की उपयोगी साझेदारियां की लेकिन शुरू की धीमी बल्लेबाजी और आखिरी पांच ओवर में पर्याप्त रन नहीं बनने के कारण भारत चुनौतीपूर्ण स्कोर नहीं बना पाया। Also Read - रोहित की पूर्व गर्लफ्रेंड सोफिया ने जारी किया VIDEO, हिटमैन से लिंकअप पर फैन्‍स को लगाई फटकार!

इंग्लैंड की तरफ से बाएं हाथ की स्पिनर सोफी एक्लेस्टोन (Sophie Ecclestone) ने 40 रन देकर तीन विकेट लिए। जिनमें हरमनप्रीत कौर और मिताली के कीमती विकेट भी शामिल हैं। तेज गेंदबाज कैथरीन ब्रंट और अन्या श्रबसोले ने दो-दो विकेट हासिल किये। Also Read - हमारे वक्‍त पर कार्तिक थोड़े कंफ्यूज थे, सहवाग ने बताया कहां हुई गड़बड़

टॉस गंवाने के बाद पहले बल्लेबाजी के लिये भारतीय टीम को अपना पहला वनडे खेलने वाली शेफाली वर्मा (14 गेंदों पर 15 रन) और स्मृति मंधाना (25 गेंदों पर 10 रन) अपेक्षित शुरुआत नहीं दिला पायी।

क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में सबसे कम उम्र में डेब्यू का रिकार्ड बनाने वाली शेफाली ने शुरू से अपने शॉट खेलने शुरू किए। उन्होंने कैथरीन पर लगातार दो चौके जमाये लेकिन इस तेज गेंदबाज ने शार्ट पिच गेंदों से उनकी परीक्षा ली। शेफाली ने ऐसी की एक गेंद पर आसान कैच दिया। मंधाना श्रबसोले की गेंद पर लेट कट करने के प्रयास में बोल्ड हुई।

मिताली ने शुरू में बेहद धीमी बल्लेबाजी की और इस बीच पूनम भी तेजी नहीं दिखा पायी। भारतीय टीम 16 ओवर में 50 रन तक पहुंची। इसके बाद पूनम और हरमनप्रीत (एक) दोनों के एक रन अंदर के पवेलियन लौटने से टीम पर दबाव बढ़ा। स्कोर चार विकेट पर 84 रन हो गया लेकिन मिताली ने विकेट बचाये रखकर दीप्ति के साथ मिलकर स्ट्राइक रोटेट की।

भारत का स्कोर 40 ओवर के बाद चार विकेट पर 134 रन था। इसके बाद इन दोनों ने अपने इरादे दिखाये लेकिन दीप्ति को श्रबसोले ने पगबाधा आउट कर दिया। मिताली ने इससे पहले इसी ओवर में मिडविकेट पर चौका लगाकर अपना अर्धशतक पूरा किया था।

मिताली आखिर तक क्रीज पर नहीं रही जिसका भारतीय स्कोर पर असर पड़ा। उन्होंने श्रबसोले के अगले ओवर में लगातार दो चौके लगाये लेकिन एक्लेस्टोन की आर्म बॉल का सही अनुमान नहीं लगा पायी और बोल्ड हो गयी। इसके बाद भारत अंतिम 27 गेंदों पर 21 रन ही जोड़ पाया। निचले क्रम में पूजा वस्त्राकर (15) ही कुछ योगदान दे पाई।