नई दिल्ली: इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने कहा है कि भारत के खिलाफ तीसरे और निर्णायक टी-20 इंटरनेशनल मैच में हार के दौरान उनकी टीम ने 20 से 30 रन कम बनाए और इसके लिए उन्होंने डेथ ओवरों में बल्लेबाजी क्रम के ध्वस्त होने को जिम्मेदार ठहराया. रोहित शर्मा ने अपना तीसरा टी-20 इंटरनेशनल शतक जड़ा जिससे भारत ने 199 रन के लक्ष्य को सात विकेट शेष रहते हासिल करके तीन मैचों की श्रृंखला 2-1 से जीत ली.

मोर्गन ने मैच के बाद कहा, ‘‘हमने संभवत: 20 से 30 रन कम बनाए. 225 या 235 रन इस मैदान पर मुश्किल लक्ष्य होता. भारत कभी हमारी पकड़ से दूर नहीं था लेकिन हम विकेट हासिल करने में जूझते रहे.’’ उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने रन गति बनाए रखी और फिर 16 वें या 17 वें ओवर में वे इस स्थिति में थे कि मैच हमारी पकड़ से दूर कर सकें जो निराशाजनक था. लेकिन जेसन राय और जोस बटलर ने शानदार शुरुआत दिलाई और हमें लगभग 220 रन के स्कोर के बारे में सोचने का मौका दिया.’’

धोनी ने फिर दिखाया बड़प्पन, VIDEO देखकर आपकी नजर में बढ़ जायेगी इज्जत

इंग्लैंड ने बीच के ओवरों में 46 रन पर विकेट गंवाए जिससे टीम की लय टूटी और डेथ ओवरों में भी टीम ने 14 गेंद के भीतर पांच विकेट गंवाए. भारत के लिए बल्ले से रोहित ने कमाल किया जबकि ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने 38 रन पर चार विकेट चटककर भारत को गेंदबाजी में वापसी दिलाई. मोर्गन ने कहा, ‘‘पांड्या ने चीजों को सामान्य रखा. उसने अच्छी लेंथ के साथ गेंदबाजी की और हम बड़े शॉट नहीं खेल पाए. अच्छे विकेट और छोटे मैदान पर हमें इससे बेहतर करना चाहिए था. संभवत: भारत ने अपना शीर्ष खेल दिखाया और हमने नहीं.’’

इंग्लैंड को 2-1 से हराने के बाद कोहली ने रोहित को नहीं बल्कि इस खिलाड़ी को दिया जीत का श्रेय

उन्होंने कहा, ‘‘हमने कम रन बनाए. पारी के अंत में 20 से 30 रन कम बनाने का खामियाजा हमें भुगतना पड़ा.’’ भारत की जीत में रोहित और कप्तान विराट कोहल के बीच तीसरे विकेट की 89 रन की साझेदारी की भी अहम भूमिका रही. मोर्गन ने कहा कि इस श्रृंखला से टीम को काफी चीजें सीखने को मिली जिसका फायदा उन्हें 12 जुलाई से शुरू हो रही तीन मैचों की एकदिवसीय इंटरनेशनल सीरीज के दौरान मिलेगा.