मुंबई के पूर्व फर्स्ट क्लास क्रिकेटर रॉबिन मॉरिस को कथित अपहरण के मामले में चार अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया गया है. सभी गिरफ्तारी मुंबई से हुई है.

इंडिया-विंडीज सीरीज में ‘फ्रंट फुट नोबॉल’ पर फैसला फील्ड अंपायर की जगह थर्ड अंपायर करेगा

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, यह मामला लोन न मिलने के बाद अपहरण की नाकाम कोशिश से जुड़ा हुआ है. मुंबई पुलिस के अनुसार, रॉबिन मॉरिस को कुछ साल पहले 3 करोड़ रुपये का लोन चाहिए था. वह अपने एक दोस्‍त के जरिए शिकायतकर्ता (लोन एजेंट) के संपर्क में आए. मॉरिस को लोन दिलाने के बदले शिकायतकर्ता ने कमीशन के रूप में 7 लाख रुपए लिए थे लेकिन वह लोन नहीं दिला पाया. जब कमीशन वापस मांगा गया तो वह सालभर बाद भी नहीं मिला.

कोहली का खुलासा-T20 वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया में सिर्फ 1 तेज गेंदबाज की जगह है खाली

आरोप है कि इसके बाद मॉरिस ने लोन एजेंट को कुर्ला के एक रेस्टोरेंट में बुलाया और अपने साथियों के साथ मिलकर जबरदस्‍ती उसे वर्सोवा वाले घर ले गए. इसके बाद उन्‍होंने लोन एजेंट के परिवार को फोन किया और कमीशन की रकम वापस करने को कहा. परिवार ने पुलिस को जानकारी दी जिसके बाद मामला दर्ज किया गया.

फिक्सिंग में भी नाम आया था सामने

रॉबिन मॉरिस का नाम फिक्सिंग में भी सामने आ चुका है. अल जजीरा चैनल के स्टिंग में रॉबिन मॉरिस को पाकिस्‍तान के पूर्व बल्‍लेबाज हसन रजा के साथ देखा गया था. इसमें रजा के साथ बैठकर उन्‍होंने टी20 टूर्नामेंट में स्‍पॉट फिक्सिंग कराने का दावा किया था. हालांकि बाद में उन्‍होंने किसी भी तरह का गलत काम करने से इनकार किया था. उनका कहना था कि चैनल ने उन्‍हें एक मूवी में काम के लिए ऑडिशन देने को बुलाया था.

रॉबिन मॉरिस ने 42 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं 

रॉबिन मॉरिस ने 1995 से 2007 तक 42 फर्स्ट क्लास और 51 लिस्ट ए मैच खेले. दाएं हाथ के मध्यम गति के इस पूर्व गेंदबाज ने फर्स्ट क्लास में 76 जबकि लिस्ट में कुल 46 विकेट चटकाए.