कोरोना काल में क्रिकेट ठप है, लेकिन अगले महीने से बीसीसीआई क्रिकेटर्स के लिए विशेष कैंप लगाने जा रहा है. ऐसे में समझा जा सकता है कि जल्‍द भारत में अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट की वापसी संभव है. बीते साल विश्‍व कप 2019 के बाद से ही पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी टीम से दूरी बनाए हुए हैं. ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि क्या बीसीसीआई इस कैंप में धोनी को जगह देगी या नहीं. Also Read - Happy Birthday MS Dhoni: साक्षी ने शेयर की माही की ये खास तस्‍वीरें, लिखा प्‍यारा सा मैसेज

धोनी को बीसीसीआई के ट्रेनिंग कैंप में जगह दिए जाने को लेकर विशेषज्ञों की राय अलग-अलग है. चयन समिति के पूर्व अध्यक्ष एमएसके प्रसाद की माने तो अगर अक्‍टूबर में टी20 विश्व कप हो रहा है तो संभवत: धोनी को बुलाया जा सकता है. लेकिन द्विपक्षीय सीरीज को लेकर चयन समिति अलग तरीके से सोच सकती है. Also Read - पाकिस्तान ने टीम इंडिया को इतना मारा कि मैच के बाद माफी मांगने लगे : शाहिद आफरीदी

प्रसाद ने कहा, ‘‘ मुझे नहीं पता कि टी20 विश्व कप हो रहा है या नहीं. अगर यह हो रहा है और आप शिविर को टूर्नामेंट पूर्व तैयारी के तौर पर देखेंगे ऐसे में धोनी को निश्चित रूप से होना चाहिए. अगर यह द्विपक्षीय सीरीज के लिए है तो आपके पास पहले से ही केएल राहुल, रिषभ पंत और संजू सैमसन हैं.’’ Also Read - Happy Birthday MS Dhoni: स्पाइसी है मिस्टर एंड मिसेज धोनी की मैरिड लाइफ, पब्लिकली इजहार करने से नहीं चूकतीं मैडम साक्षी

प्रसाद ने हालांकि कहा कि धोनी की मौजूदगी से शिविर में विकेटकीपरों को काफी फायदा होगा. धोनी के विश्व कप जीतने वाली टीम के पूर्व साथी खिलाड़ी आशीष नेहरा को लगता है कि अगर यह विकेटकीपर-बल्लेबाज खुद खेलना चाहता हैं, तो उन्हें टीम में होना चाहिए.

‘‘अगर मैं राष्ट्रीय चयनकर्ता होता, तो एमएस धोनी मेरी टीम में होते लेकिन बड़ा सवाल यह है कि वह खेलना चाहते हैं या नहीं. आखिर में यह मायने रखता है कि धोनी क्या चाहते है.’’

ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह शिविर में युवा खिलाड़ियों को देखना चाहते है. ‘‘ मैं उस शिविर में सूर्यकुमार यादव सहित युवा खिलाड़ियों को देखना चाहूंगा जिसमें अंडर -19 टीम के लेग स्पिनर रवि बिश्नोई और यशस्वी जायसवाल भी हो. उन्हें सीनियर खिलाड़ियों के साथ बातचीत करने का मौका मिलना चाहिए. टी20 टीम के लिए सूर्यकुमार यादव से बडा हकदार कोई नहीं है.’’