दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर फाफ डु प्लेसिस ने प्रोटियाज टेस्ट और टी20 टीम के कप्तान के पद से इस्तीफा देने का ऐलान किया है। 35 साल के क्विंटन डी कॉक के नेतृत्व में दक्षिण अफ्रीका टीम की अगली पीढ़ी को तैयार करने में मदद करने के लिए डु प्लेसिस ने कप्तानी से एक कदम पीछे हटने का फैसला किया है।Also Read - IND vs SA 1st ODI: कोहली-रोहित नहीं आज शिखर धवन होंगे भारत के कप्तान, इस सीरीज में संभालेंगे कमान | Watch Video

अपने आधिकारिक बयान में डु प्लेसिस ने कहा, “खेल से दूर गुजारे पिछले कुछ हफ्तों ने मुझे अपने देश की प्रतिनिधित्व और नेतृत्व करने के सम्मान के बारे में सोचने का एक नया नजरिया प्रदान किया। ये शानदार रहा है, कभी मुश्किल भी हुई और कई बार अकेलापन भी महसूस हुआ, लेकिन मैं इस अनुभव को बदलना नहीं चाहूंगा क्योंकि इसने मुझे वो शख्स बनाया जिस पर आज मुझे गर्व है।” Also Read - साउथ अफ्रीका की सीरीज हार से दुखी नहीं हैं डेविड मिलर, बोले- हम जीत सकते हैं टी20 वर्ल्ड कप

इस अक्टूबर और नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले T20 विश्व कप के साथ आगामी घरेलू और विदेशी सीरीज में डु प्लेसिस एक बल्लेबाज और वरिष्ठ खिलाड़ी के रूप में टीम में योगदान करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहेंगे, जो युवाओं को मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। Also Read - भारत के टी20 विश्व कप स्क्वाड में ये पांच गेंदबाज ले सकते हैं जसप्रीत बुमराह की जगह

अहमदाबाद के नए स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट खेल सकती है टीम इंडिया

डु प्लेसिस ने दिसंबर 2012 में न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में पहली बार दक्षिण अफ्रीका का नेतृत्व करने के बाद से सभी तीनों फॉर्मेटों में कुल 112 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी की है। उनकी कप्तानी में खेली पहली सीरीज दक्षिण अफ्रीका ने 2-1 से जीती थी। तब से, कप्तान के रूप में खेलते हुए डु प्लेसिस ने 11 शतक और 28 अर्धशतकों के साथ सभी फॉर्मेट में 5, 101 रन बनाए हैं।