दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर फाफ डु प्लेसिस ने प्रोटियाज टेस्ट और टी20 टीम के कप्तान के पद से इस्तीफा देने का ऐलान किया है। 35 साल के क्विंटन डी कॉक के नेतृत्व में दक्षिण अफ्रीका टीम की अगली पीढ़ी को तैयार करने में मदद करने के लिए डु प्लेसिस ने कप्तानी से एक कदम पीछे हटने का फैसला किया है।Also Read - जैकब जुमा को जेल में डाले जाने के बाद दक्षिण अफ्रीका में हुई हिंसा जारी, 45 लोगों की मौत

अपने आधिकारिक बयान में डु प्लेसिस ने कहा, “खेल से दूर गुजारे पिछले कुछ हफ्तों ने मुझे अपने देश की प्रतिनिधित्व और नेतृत्व करने के सम्मान के बारे में सोचने का एक नया नजरिया प्रदान किया। ये शानदार रहा है, कभी मुश्किल भी हुई और कई बार अकेलापन भी महसूस हुआ, लेकिन मैं इस अनुभव को बदलना नहीं चाहूंगा क्योंकि इसने मुझे वो शख्स बनाया जिस पर आज मुझे गर्व है।” Also Read - दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा को 15 महीने जेल की सजा, जानें पूरा मामला

इस अक्टूबर और नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले T20 विश्व कप के साथ आगामी घरेलू और विदेशी सीरीज में डु प्लेसिस एक बल्लेबाज और वरिष्ठ खिलाड़ी के रूप में टीम में योगदान करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहेंगे, जो युवाओं को मार्गदर्शन प्रदान करेंगे। Also Read - Shocking News: दक्षिण अफ्रीका में 10 बच्चों को जन्म देने वाली कहानी झूठी, सरकार ने कहा- महिला गर्भवती नहीं थी...

अहमदाबाद के नए स्टेडियम में इंग्लैंड के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट खेल सकती है टीम इंडिया

डु प्लेसिस ने दिसंबर 2012 में न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में पहली बार दक्षिण अफ्रीका का नेतृत्व करने के बाद से सभी तीनों फॉर्मेटों में कुल 112 अंतर्राष्ट्रीय मैचों में दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी की है। उनकी कप्तानी में खेली पहली सीरीज दक्षिण अफ्रीका ने 2-1 से जीती थी। तब से, कप्तान के रूप में खेलते हुए डु प्लेसिस ने 11 शतक और 28 अर्धशतकों के साथ सभी फॉर्मेट में 5, 101 रन बनाए हैं।