कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में भारत की कई मशहूर हस्तियों ने अपना योगदान दिया है। कई क्रिकेटरों ने भी इस लड़ाई में अपना समर्थन दिया है, जिसमें सचिन तेंदुलकर, सुरेश रैना, विराट कोहली और गौतम गंभीर का नाम शामिल है, जिनकी काफी सराहना की गई। ले किन सीनियर खिलाड़ियों युवराज सिंह (Yuvraj Singh) और हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) के कोरोना के खिलाफ जंग में हिस्सा लेने पर फैंस भड़क गए। Also Read - दिल्ली में 22000 के पार पहुंचे कोरोना वायरस के मामले, अब तक 556 की मौत

दरअसल युवराज और हरभजन ने ट्विटर पर पूर्व पाकिस्तानी बल्लेबाज शाहिद आफरीदी की संस्था के प्रति समर्थन दिखाया और फैंस ने दान करने की अपील की। जिस पर भारतीय फैंस भड़क गए। हरभजन और युवराज के आफरीदी की संस्था को लेकर ट्वीट करने के मिनटों बाद ही #ShameOnYuviBhajji ट्रेंड करने लगा। Also Read - अगस्त-सितंबर में टीम इंडिया का कैंप लगाने के बारे में सोच रही है बीसीसीआई

फैंस के युवराज-हरभजन को पाकिस्तान की संस्था का समर्थन करने पर लताड़ने की पीछे वो खबर है, जिसमें कहा जा रहा था कि पाकिस्तानी ट्रस्ट, कराची के हिंदुओं को जरूरत का सामान उपलब्ध नहीं करा रहे हैं। टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर में ऑल पाकिस्तान हिंदू पंचायत के सेक्रेटरी रवि दवानी के हवाले से कहा गया कि सोमवार को कराची में सयलानी वेलफेयर ट्रस्ट के लोगों ने जरूरत का सामना बाटंते समय हिदुंओं को अनदेखा किया।

दवानी ने कहा, “जब हमें इसके बारे में पता चला, तो मैं ट्रस्ट के फाउंडल मौलाना बशीर अहमद फारूकी से बात करने पहुंचा। उन्होंने कहा कि खाना बांटने में कोई भी भेदभाव नहीं किया जा रहा है। अगले दिन उसी ट्रस्ट के लोगों ने कराची की हिंदू कॉलोनी में खाने के 400 पैकेट बांटे।”

हालांकि ट्रस्ट ने अपनी गलती में सुधार कर लिया लेकिन इसके बावजूद फैंस ने हरभजन-युवराज को जमकर खरी-खोटी सुनाई। फैंस ने आफरीदी के पुराने भारत विरोधी बयानों के वीडियो भी शेयर किए।