विशाखापट्नमः दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज वेर्नोन फिलेंडर का मानना है कि भारत के खिलाफ दो अक्टूबर से यहां शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज में उनकी टीम के सीनियर खिलाड़ियों को आगे आकर कड़ी चुनौतियों का समाना करना होगा. तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के जरिए दक्षिण अफ्रीका की टीम विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के अपने अभियान की भी शुरुआत करेगी. दक्षिण अफ्रीका ने शनिवार को भारतीय बोर्ड अध्यक्ष एकादश के खिलाफ तीन दिनों का अभ्यास मैच ड्रॉ किया. पहला दिन बारिश में धुल गया था. Also Read - 'वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट के लिए इंग्लैंड टीम में लौटेंगे स्टुअर्ट ब्रॉड'

Also Read - भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने बताया क्यों सलाइवा का विकल्प नहीं बन सकता है पसीना

PIC: फुर्सत के पल में बिलियडर्स का लुत्फ उठा रहे हैं धोनी Also Read - जब मैं और धोनी रूममेट थे तो हमेशा उनके लंबे बालों के बारे में बात करते थे: गंभीर

मेहमान टीम ने अपनी पहली पारी में छह विकेट खोकर 279 रन बनाए थे और 265 पर विपक्षी टीम के आठ विकेट चटकाए थे. फिलेंडर ने मैच में 48 रन बनाए और दो विकेट लिए. आईससी ने फिलेंडर के हवाले से बताया, “मैच खेलना हमेशा अच्छा रहता है. सौभाग्य से मैं कुछ दिन पहले ही यहां आया था ताकि मुझे खेलने का अधिक समय मिले. मुख्य रूप से यह सिर्फ लय मे आने के लिया किया जाता है. यह एक कठिन सीरीज होने जा रही है इसलिए जितना अधिक समय आप मैदान पर बिताएंगे उतना बेहतर होगा. ”

नेहरा बोले- जसप्रीत बुमराह को अपने एक्शन में बदलाव करने की जरूरत नहीं

फिलेंडर ने कहा, “कई बड़े खिलाड़ियों पर स्पॉटलाइट होगा और उन्हें अच्छा प्रदर्शन करना होगा. हमारा काम यहां आकर पहला हमला करना होगा क्योंकि भारत से स्पष्ट रूप से अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद की जा रही है. हमें एक ऐसी टीम के रूप में जाना जाता है जो धीमी शुरुआत करती है और इस बार हमें अच्छी शुरूआत करनी होगी. खिलाड़ियों पर बहुत दबाव है, लेकिन यह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट है और आप इसे उसी तरह रखना चाहते हैं.”

अगर हितों के टकराव मामले में दोषी साबित हुई CAC तो खतरे में आ जाएगा रवि शास्त्री का कार्यकाल

दक्षिण अफ्रीका के पिछले भारत दौर पर फिलेंडर ने कुल 15 विकेट चटकाए थे. फिलेंडर ने कहा, “हमने कुछ सीनियर खिलाड़ियों को खो दिया है और नए खिलाड़ी आ रहे हैं और हम चाहते हैं कि वे जल्दी सीखें. उम्मीद है कि हम उन सीनियर खिलाड़ियों के अनुभव का उपयोग कर सकते हैं जो अभी भी टीम में हैं और आने वाले वर्षों के लिए एक अच्छी टेस्ट टीम बना सकते हैं. खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने के लिए एक अच्छी नींव रखना सबसे महत्वपूर्ण है.”