विदर्भ के कप्तान फैज फजल (Faiz Fazal) का कहना है कि रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में वापसी करके वो एक बच्चे की तरह महसूस कर रहे हैं। बीसीसीआई सचिव जय शाह ने शुक्रवार को कोविड-19 महामारी के कारण पिछला सीजन स्थगित होने के बाद घरेलू क्रिकेटरों को एक बड़ी राहत दी गई है। शाह ने ऐलान किया है कि इस सीजन रणजी टूर्नामेंट का आयोजन दो स्टेज में किया जाएगा।Also Read - ऐसा लगता है जब एमएस धोनी बल्लेबाजी कर रहे थे तो जयदेव उनादकट सो गए होंगे: संजय मांजरेकर

फजल ने आईएएनएस के साथ बातचीत में कहा, “ईमानदारी से कहूं तो जब मैंने कुछ पत्रकारों द्वारा भेजे गए लिंक को देखा, तो मैं वास्तव में हमारे देश का प्रमुख टूर्नामेंट वापस शुरू होने पर बहुत खुश हुई। मैं वास्तव में एक बच्चे की तरह महसूस कर रहा हूं, क्योंकि दो साल बाद हमें रणजी ट्रॉफी खेलने और रेड-बॉल मैच देखने को मिलेगा।” Also Read - …प्‍लेऑफ तक सोचने की जरूरत नहीं, जयदेव उनादक ने बताया मुंबई इंडियंस का गेम प्‍लान

फजल ने कहा, “हम कुछ तैयारी कर रहे थे, लेकिन दुर्भाग्य से मामले बढ़ गए और बीसीसीआई को इसे अनिश्चित काल के लिए स्थगित करना पड़ा। बीसीसीआई के लिए धन्यवाद, वे इस समय किसी तरह प्रीमियर टूर्नामेंट हासिल करने में कामयाब रहे और हम वास्तव में वहां अब खेल सकते हैं। फजल ने आखिरी बार फरवरी 2020 में देश में प्रथम श्रेणी मैच खेला था।” Also Read - महिला सीनियर टी20 ट्रॉफी के दौरान क्वारेंटीन में नहीं रहेंगे खिलाड़ी, बरकरार रहेगा बायो बबल प्रोटोकॉल

36 साल के फजल इस बात से परेशान नहीं हैं कि रणजी ट्रॉफी का फॉर्मेट क्या हो सकता है। इसके बजाय, उनका ध्यान सिर्फ एक चीज पर है, जितना संभव हो उतना लाल गेंद वाला क्रिकेट खेलना, एक फॉर्मेट जिसे वो अपनी योग्यता कहते हैं।

उन्होंने कहा, “ईमानदारी से मैं आपको बता रहा हूं, कि हमें अभी जितना अधिक खेलने को मिलेगा वो सबसे बड़ी बात होगी, क्योंकि मैं निजी तौर पर रेड-बॉल क्रिकेट, चार दिवसीय क्रिकेट को बहुत याद कर रहा हूं। ये मेरी खूबी है और मुझे टेस्ट क्रिकेट पसंद है। ये मेरे लिए क्रिकेट का नंबर एक फॉर्मेट है।”

उन्होंने आगे कहा, “अगर हमें खेलने का मौका मिलता है, तो ये हमारे लिए बहुत बड़ी बात होगी। शेड्यूल जो भी हो, ये इतना मुश्किल है, क्योंकि ये आईपीएल से एक महीने पहले ही शुरू हो रहा है। अगर हमें 1 से 1.5 महीने तक खेलने का मौका मिलता है, पर्याप्त होगा।”

कोविड-19 मामलों के कारण 13 जनवरी से शुरू होने वाले रणजी ट्रॉफी को रोक दिया गया था, लेकिन अब प्रतियोगिता होने के साथ, फजल विदर्भ के लिए मैदान पर वापस आने के लिए तैयार है।

फजल ने कहा, “मैं अपना शारीरिक प्रशिक्षण अपने घर पर एक छोटे से जिम में लेता हूं। मैं जिस कॉलोनी में रहता हूं, जहां एक क्रिकेट मैदान और एक पार्क भी है। इसका मतलब है कि मैं अपना ट्रेनिंश सेशन अपने दम पर कर सकता हूं। दुर्भाग्य से, मैंने 4 जनवरी के बाद बल्ले को नहीं छुआ है। उस समय कोरोना के मामले भी बहुत बढ़ गए थे और मैं कुछ नहीं कर सकता था। लेकिन जब हमारी टीम के लिए तारीखों की पुष्टि हो जाएगी, हम तैयारी करेंगे और मैदान पर वापस आएंगे।”

रणजी ट्रॉफी खेलने और आयोजित करने के महत्व पर जोर देते हुए फजल ने समझाया, “देखिए, रणजी ट्रॉफी आईपीएल से बिल्कुल अलग है। निस्संदेह आईपीएल एक बहुत बड़ा मंच है और हमारे पास सभी अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी हैं, विदेशी क्रिकेटर हमारे प्रमुख क्रिकेटरों के साथ यहां आते हैं और खेलते हैं। वहीं यह सफेद गेंद वाला क्रिकेट है।”

उन्होंने कहा, “हम सभी जानते हैं कि टूर्नामेंट कितना बड़ा है और हर साल रणजी ट्रॉफी का होना कितना महत्वपूर्ण है। सभी के लिए दुर्भाग्यपूर्ण समय था, इसमें कोई संदेह नहीं है कि कई बार रणजी ट्रॉफी नहीं हो सकी। लेकिन अब वास्तव में खुशी है कि यह फिर से शुरू हो जाएगा।”