साल 2001 में लगातार 15 टेस्ट मैच जीतकर ऑस्ट्रेलियाई टीम भारत पहुंची थी. टीम इंडिया ने मुंबई टेस्ट में हराकर उसके इस अपराजय क्रम को तोड़ा था. भारतीय क्रिकेट टीम ने कोलकाता के ऐतिहासिक ईडन गार्डंस स्टेडियम में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को हराकर सीरीज 2-1 से अपने नाम की थी. खास बात यह है कि इस टेस्ट को टीम इंडिया ने फॉलोऑन खेलते हुए अपने नाम किया था. इस जीत को याद करते हुए पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने कहा है कि उन्हें लगा कि पूरा देश इस जश्न में शामिल है. लक्ष्मण ने 281 रन की बेहतरीन पारी खेल टीम इंडिया को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी. Also Read - मुझे ऐसा लगा जैसे मैं अमिताभ बच्चन हूं : मोहम्मद कैफ ने याद किया नेटवेस्ट सीरीज की जीत का जश्न

वेरी-वेरी स्पेशल के नाम से मशहूर लक्ष्मण ने द टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा, ‘हमें तत्काल चेन्नई जाना था. जश्न मनाने के लिए बहुत ही कम समय था. लेकिन ऐसा लगा कि उस जीत के बाद पूरा देश हमारे साथ जश्न मना रहा था.’ Also Read - अजिंक्य रहाणे का खुलासा- टी20 फॉर्मेट में खेल सुधारने के लिए द्रविड़ ने दी ये सलाह

सीरीज में 32 विकेट लिए थे हरभजन सिंह ने  Also Read - गावस्कर ने नासिर हुसैन को लताड़ लगाई; कहा- वो 70-80 के दशक की टीम इंडिया के बारे में जानते क्या है?

लक्ष्मण के अलावा स्टार ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने भी उस सीरीज में 32 विकेट लिए थे. उन्होंने इसके लिए तत्कालीन कप्तान सौरव गांगुली की भी तारीफ की, जिन्होंने भज्जी पर विश्वास जताया था. इसके अलावा राहुल द्रविड़ ने 180 रनों की पारी खेली थी.

कप्तान गांगुली की जमकर की तारीफ 

लक्ष्मण ने कहा, ‘युवा खिलाड़ी टीम में वापसी कर रहे थे और यह काफी शानदार था. निश्चित रूप से, उन्हें सौरव से काफी आत्मविश्वास मिला था, जिन्होंने उनका काफी सपोर्ट किया था क्योंकि उस समय टीम में अनिल कुंबले और जवागल श्रीनाथ नहीं थे.’

कोलकाता टेस्ट की पहली पारी में मेजबान भारत 171 रन ही बना पाया था. जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने 445 रन बनाए थे. इसके बाद टीम इंडिया ने दूसरी पारी 7 विकेट पर 657 पर घोषित की थी. ऑस्ट्रेलियाई टीम दूसरी पारी में 212 रन पर ढेर हो गई और 171 रन से मैच और सीरीज हार गई.