फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण के फाइनल में रविवार को फ्रांस ने लुज्निकी स्टेडियम में खेले गए बेहद रोमांचक और नाटकीय मैच में पहली बार विश्व कप खेल रही क्रोएशिया को 4-2 से शिकस्त दे दूसरी बार विश्व विजेता का तमगा हासिल किया. जैसे ही मैच खत्म हुआ साथ मैच देख रहे दोनों देशों के राष्ट्रपति ने एक दूसरे को गले लगा जीत की बधाई दी. फ्रांस 20 साल बाद विश्व फुटबाल का सरताज बनने में सफल रहा है. इससे पहले उसने अपने घर में 1998 में दिदिएर डेसचेम्प्स की कप्तानी में पहली बार विश्व कप जीता था. Also Read - फ्रांस की संसद के निचले सदन ने इस्लामी अलगाववाद से लड़ने के लिए कड़े प्रावधान वाले बिल को दी मंजूरी

DiKjDdlXkAELJifAlso Read - Coronavirus: कोरोना वायरस की चपेट में आए फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों

DiKjQFGW4AEp7ewAlso Read - फ्रांस में वर्जिनिटी टेस्ट पर बैन से मचा बवाल, इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ उठाए जा रहे कदम

DiKjA1EWsAY7V8r

DiKmuGBXcAA_N3-

DiKmih9XkAAtZ3s

DiKmxIyWsAEy9W3

DiKjAtdV4AAJPIW

DiKnrxGVMAAMYLx

DiKlnZ_UYAA1ebU

वही डेसचेम्प्स एक कोच के तौर पर इस बार अपनी टीम को दूसरी बार खिताब दिलाने में सफल रहे हैं. वह ऐसे तीसरे शख्स हैं जो खिलाड़ी और कोच के तौर पर विश्व कप जीतने में सफल रहे हैं. उनसे पहले ब्राजील के मारियो जागालो और जर्मनी के फ्रांज बेककेनबायुएर ने कोच और खिलाड़ी से तौर पर विश्व कप जीते हैं.