सेंट पीटर्सबर्ग : बेल्जियम के गोलकीपर थैबॉट कोर्टोइस ने कहा कि विश्व कप सेमीफाइनल में उनकी टीम की फ्रांस के हाथों हार ‘फुटबाल के लिये शर्मनाक’ है. उन्होंने डिडियर देसचैम्प्स की टीम की रक्षात्मक शैली की आलोचना की. सेंट्रल बैक सैमुअल उमटिटी के 51 वें मिनट में हेडर से किये गोल की मदद से फ्रांस ने यह मैच 1-0 जीता और तीसरी बार विश्व कप फाइनल में जगह बनायी.

चेल्सी की तरफ से खेलने वाले गोलकीपर कोर्टोइस ने बेल्जियन टीवी चैनल आरटीबीएफ से कहा, ‘‘ यह हताश करने वाला मैच था. फ्रांस ने मैच खेला ही नहीं. उसने अपनी पूरी ताकत गोल बचाने में लगा दी. उसके सभी 11 खिलाड़ी अपने गोल के 40 मीटर के दायरे में रहे.’’

FIFA 2018: पेनाल्टी शूटआउट में क्रोएशिया ने रूस को हराया, सेमीफाइनल में बनाई जगह

कोर्टोइस ने कहा, ‘‘उन्होंने जवाबी हमला करने की रणनीति अपनायी और काइलियान एमबापे ने इसकी जिम्मेदारी संभाली जो बहुत तेज दौड़ लगाता है. यह उनका अधिकार है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन हम बहुत निराश थे क्योंकि हम इसलिए नहीं हारे कि वह टीम हम से बेहतर थी. हम ऐसी टीम टीम से हारे जिसने कुछ भी खेल नहीं खेला, केवल गोल बचाने पर पूरी ताकत लगायी. यह फुटबाल के लिये शर्मनाक है कि बेल्जियम जीत दर्ज नहीं कर पाया.’’

fifa world cup 2018: बेल्जियम को 1-0 से हराकर फ्रांस तीसरी बार फाइनल में पहुंचा

बता दें कि मंगलवार देर रात सेंट पीटर्सबर्ग स्टेडियम में खेले गए पहले सेमीफाइनल मैच में बेल्जियम को 1-0 से मात देकर फ्रांस ने फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण के फाइनल में जगह बना ली. फ्रांस तीसरी बार फाइनल में पहुंचने में सफल रहा है. उसने इससे पहले 1998 और 2006 में फाइनल में जगह बनाई थी. 1998 में वह विश्व विजेता बना था. वहीं बेल्जियम पहली बार फाइनल में पहुंचने से चूक गई. फाइनल में फ्रांस का सामना इंग्लैंड और क्रोएशिया के बीच बुधवार को होने वाले दूसरे सेमीफाइनल मैच की विजेता से होगा.