भारतीय फुटबॉल टीम के स्टार खिलाड़ी गौरमांगी सिंह (Gouramangi Singh) अपनी पत्नी से 4 महीने नहीं मिल सके हैं बावजूद इसके उन्हें कोई पछतावा नहीं है क्योंकि इस समय कोरोना वायरस महामारी (Corona virus) के बीच उनकी पत्नी कमांडर पुष्पांजलि पोत्सांगबाम बोइंग 787 ड्रीमलाइनर की बतौर पायलट दुनिया के अलग अलग हिस्सों से भारतीयों को स्वदेश लाने में जुटी हुई हैं.Also Read - Coronavirus Cases In Kerala: केरल से होगी थर्ड वेब की शुरुआत? आज फिर 20 हजार से अधिक मामले आए सामने

दिल्ली में रहने वाली एयर इंडिया की पायलट पुष्पांजलि सरकार के वंदे भारत अभियान के तहत दुनिया के अलग अलग देशों में फंसे भारतीयों को लाने में जुटी हैं. गौरमांगी ने कहा ,‘जब आपका अपना कोई देश के लिए कुछ कर रहा है तो अच्छा लगता है. खासकर ऐसे समय में. यह काफी कठिन और चुनौतीपूर्ण काम है. लेकिन अगर मैं कहूं कि चिंता नहीं होती तो यह झूठ होगा .’ Also Read - Coronavirus cases In India: कोरोना की तीसरी लहर की तरफ बढ़ रहा देश, 24 घंटे में 555 लोगों की हुई मौत

11 साल से एयर एंडिया में हैं कार्यरत  Also Read - Covid-19 R Value: कोरोना के R Value में फिर हो रही बढ़ोत्तरी, केरल में सबसे अधिक मामले, जानिए क्या है यह

पुष्पांजलि पिछले 11 साल से एयर इंडिया में काम कर रही हैं. जल्दी ही दिल्ली आने वाले गौरमांगी ने कहा ,‘पिछले सप्ताह वह लागोस में थी. वह सिर्फ अंतरराष्ट्रीय सेक्टर में ही सेवारत हैं.’ एक फ्लाइट उड़ाने के लिए  तीन बार कोरोना टेस्ट से गुजरना होता है. रवानगी से पहले, आगमन पर और फिर पांच दिन के बाद.

‘लगता है डर’

गौरमांगी ने कहा ,‘यह काफी तनावपूर्ण है क्योंकि हमेशा डर लगा रहता है. मेरी पत्नी और उसके तमाम सहकर्मियों को सलाम जो डॉक्टरों और नर्सों की तरह मोर्चे पर डटे हुए हैं .’ उन्होंने उम्मीद जताई कि जल्दी ही हालात सामान्य होंगे और खेल गतिविधियां बहाल होंगी.