सिडनी: इसी साल दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन में खेले गए टेस्ट मैच में बॉल टेम्परिंग विवाद के चलते ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच के पद से इस्तीफा देने वाले डैरेन लैहमन ने कहा है कि वह एक बार फिर कोचिंग की दुनिया में लौटना चाहते हैं. लैहमन तकरीबन पांच साल तक टीम के कोच रहे और उन्हीं के मार्गदर्शन में टीम ने 2015 में विश्व कप अपने नाम किया था.

बॉल टेम्परिंग विवाद में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने हालांकि लैहमन को क्लीन चिट दे दी थी, लेकिन उन्‍होंने कुछ दिनों बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इस विवाद के कारण सीए ने तत्कालीन कप्तान स्टीवन स्मिथ और उप-कप्तान डेविड वार्नर के साथ सलामी बल्लेबाज कैमरून बैनक्रॉफ्ट पर प्रतिबंध लगा दिया था.

अंपायर से भिड़ने पर खिलाड़ी पर लगा 10000 डॉलर का जुर्माना

क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू ने लैहमन के हवाले से लिखा है, “मैं एक दिन दोबारा कोचिंग करना चाहता हूं. मुझे लगता है कि मैं अच्छा कोच हूं. मेरा कोचिंग रिकॉर्ड काफी बेहतर है. एक समय मैं वहां जाना चाहूंगा. एक छोटा करार शायद सही होगा.. मैं इसी की खोज में हूं.”

इंग्‍लैंड को वर्ल्‍ड चैंपियन बनाने के लिए टीम से बाहर होने को भी तैयार हैं कप्‍तान मोर्गन

उन्होंने हालांकि यह साफ कर दिया है वह इस साल गर्मियों में कोचिंग से दूर रहेंगे और इसके बाद इस बारे में सोचेंगे. उन्होंने कहा, “मैं इस साल गर्मियों में इससे दूर रहूंगा. इस दौरान मैं क्रिकेट देखूंगा और इसका लुत्फ उठाऊंगा. अगले साल देखते हैं कि क्या होता है.” लैहमन के कोच रहते ही ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 2013-14 और 2017-18 एशेज में जीत हासिल की थी.