पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज वसीम अकरम (Wasim Akram) का कहना है कि वो बंद दरवाजों के पीछे टी20 विश्व कप होता नहीं देख सकते हैं। इस पूर्व क्रिकेटर का मानना है कि आईसीसी को विश्व कप आयोजन के लिए सही समय का इंतजार करना चाहिए। Also Read - अनोखा शौक: कोरोना संकट में इस शख्‍स ने 3 लाख रुपए का सोने का मास्‍क बनवाया

रिपोर्ट के मुताबिक काउंसिल टी20 विश्व कप को अगले साल तक के लिए स्थगित कर सकती है ताकि अक्टूबर-नवंबर के विंडो में इंडियन प्रीमियर लीग का आयोजन हो सके। Also Read - Coronavirus in Delhi latest Update: दिल्ली में संक्रमितों संख्या 94 हजार के पार, अब कंटेनमेंट जोन के बाहर भी होगा एंटीजेन टेस्ट

अकरम ने द न्यूज से बातचीत में कहा, “निजी तौर पर मुझे नहीं लगता कि ये अच्छा विचार है, बिना दर्शक के आप विश्व कप का आयोजन कैसे कर सकते हैं। विश्व कप का मतलब ही है दुनिया के हर कोने से अपनी टीम का समर्थन करने के लिए आने वाले दर्शकों से हैं। बात माहौल की है और ये आपको बंद दरवाजों के पीछे नहीं मिल सकता है।” Also Read - दिल्ली सरकार ने जारी किए कोरोना के संशोधित दिशा-निर्देश, इन बीमारियों से जूझ रहे मरीज घर में पृथक वास में नहीं रह सकते

अकरम ने आगे कहा, “इसलिए मेरा मानना है कि उन्हें बेहतर समय का इंतजार करना चाहिए और एक बार ये महामारी नियंत्रण में आ जाय और नियमों में ढील मिल जाय तो फिर हम सही से विश्व कप का आयोजन कर सकते हैं।”

28 मई को आईसीसी ने ये फैसला सुनाया था कि टी20 विश्व कप के आयोजन को लेकर कोई और फैसला 10 जून के बाद होगा।

आईसीसी क्रिकेट समिति ने हाल ही में गेंद पर सलाइवा के इस्तेमाल पर बैन लगाने का प्रस्ताव रखा। इस पर अकरम का कहना है कि गेंदबाज इस फैसले से बिल्कुल खुश नहीं होंगे।

उन्होंने कहा, “मुझे यकीन है कि तेज गेंदबाजों को अगर सलाइवा का इस्तेमाल करने से रोका जाएगा तो उन्हें ये पसंद नहीं आएगा। उन्होंने पसीने के इस्तेमाल की इजाजत दे दी है लेकिन मैं निश्चित तौर पर कह सकता हूं कि ये समान नहीं है।”

पूर्व गेंदबाज ने कहा, “मुझे विश्वास है कि उन्हें एक उचित समाधान खोजने की आवश्यकता होगी। लेकिन मैं ये कहूंगा कि उन्हें जल्द से जल्द इस समस्या को हल करने की जरूरत पड़ेगी।”