टीम इंडिया के सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाजी अटैक का अहम हिस्सा- मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) का कहना है कि पूर्व पाकिस्तानी कप्तान वसीम अकरम (Wasim Akram) और दिग्गज भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान (Zaheer Khan) का उनके करियर पर गहरा असर रहा है। शमी ने बंगाल टीम के साथी मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) के साथ इंस्टाग्राम चैट में ये बात कही। Also Read - थूक के इस्‍तेमाल पर रोक से बिगड़ेगा गेंद-बल्‍ले का संतुलन, अनिल कुंबले का सुझाव, पिच में हो बदलाव

शमी जब कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) टीम से जुड़े तो उन्हें वसीम के साथ काम करने का मौका मिला जिससे वो बहुत खुश थे। उन्होंने कहा, “जब मैं नाइट राइडर्स में था तब मुझे क्रिकेट से जुड़ी स्किल और अहमियत का पता चला। मैंने पूरी उम्र वसीम अकरम को टीवी पर देखा, लेकिन नाइट राइडर्स के साथ मुझे उनसे सीखने का मौका मिला था। शुरुआती दिनों में मैं उनसे बात तक नहीं कर पाता था।” Also Read - चहल पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी के इस्‍तेमाल के मामले में युवराज सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज, पुलिस ने...

उन्होंने कहा, “वसीम भाई मेरे पास आए और उन्होंने फिर मुझसे बात करना शुरू किया। उन्होंने मुझे मेरी गेंदबाजी के बारे में बताया। वो जल्दी मुझे पढ़ रहे थे। मैंने उनसे काफी कुछ सीखा है। जब आपके पास इतना अनुभवी खिलाड़ी हो तो आपको बात करने से शर्माना नहीं चाहिए और इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना चाहिए।” Also Read - यौन उत्‍पीड़न के मामले में भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी को कोच पद से किया गया बर्खास्‍त

वहीं दिल्ली डेयरडेविल्स (अब दिल्ली कैपिटल्स) में आने के बाद शमी को पूर्व तेज गेंदबाज जहीर के साथ काम करने का मौका मिला। इस बारे में उन्होंने कहा, “जहीर भाई और मैं साथ में ज्यादा नहीं खेले, लेकिन जब भी मैं उनसे बात करता तो वो मेरी मदद के लिए तैयार रहते थे। मैं जब आईपीएल में दिल्ली में था तब उनके साथ काम करने का मौका मिला। जहीर भाई काफी अनुभवी थे। मैंने उनसे नई गेंद से गेंदबाजी करने के बारे में सीखा।”