पूर्व दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर गुलाम बोदी को 2015 के स्पॉट फिक्सिंग मामले में शुक्रवार को प्रिटोरिया वाणिज्यिक अपराध न्यायालय में पांच साल कैद की सजा सुनाई गई।

बोदी पहले दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी हैं जिन्हें 2004 के भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की रोकथाम और संयोजन के तहत सजा दी गई है। बता दें कि ये नियम हैंसी क्रोनिए मैच फिक्सिंग कांड के बाद बनाया गया था।

पिछले साल नवंबर में, 40 साल के इस खिलाड़ी को खेल गतिविधियों से जुड़े भ्रष्टाचार के आठ मामलों में दोषी ठहराया, गया लेकिन उन्होंने अदालत से दया की भीख मांगी, क्योंकि उन्हें 15 साल तक की सजा हो सकती है।

भारतीय खिलाड़ियों की तरह लंबी पारियां खेलें हमारे खिलाड़ी : फाफ डु प्लेसिस

बोदी ने सितंबर 2015 में सुपरस्पोर्ट कमेंटेटर के रूप में मिले अधिकारों का इस्तेमाल पूर्व साथी खिलाड़ियों और क्रिकेट बिरादरी के सदस्यों को आगामी रैम / एसएलएएम टूर्नामेंट के दौरान आसानी से पैसा कमाने की संभावना के बारे में बताने के लिए किया। उन्होंने फास्ट-फूड चिकन आउटलेट्स, कॉफी शॉप्स और जोहान्सबर्ग उत्तरी उपनगर स्ट्रिप क्लब में रुचि रखने वाले दलों से मुलाकात की।

बोदी के करीबियों में पूर्व लायंस टीम के साथी अल्विरो पीटरसन, लोनावबो त्सोटसोबे, जीन सिमेस, पुमी मात्शिकवे और थामी टोन्सिलाइल शामिल थे। इसके अलावा, लायंस के पड़ोसी फ्रैंचाइज़ी टाइटंस के एक तेज गेंदबाज भी शामिल थे।