नई दिल्ली: चौबीस साल पहले फैनी डिविलियर्स ने अपनी खतरनाक स्विंग गेंदबाजी से ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम की चूलें हिला दी थी और अब गेंद से छेड़खानी के मामले में ऑस्ट्रेलियाई टीम की कलई खोलने वालों में से वह एक हैं. जनवरी 1994 में दक्षिण अफ्रीका की अनुभवहीन टीम पहली बार ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर थी और हार की कगार पर पहुंच गई थी जब ऑस्ट्रेलिया को दूसरा टेस्ट जीतने के लिये सिर्फ 116 रन की जरूरत थी. Also Read - IND vs AUS ब्रिसबेन टेस्ट: चोट से ऑस्ट्रेलिया भी हुआ परेशान, इस दिग्गज फास्ट बॉलर की हैम्स्ट्रिंग में खिंचाव

Also Read - India vs Australia: Steve Smith ने बताया- ब्रिसबेन में भारत को रोकने की क्या है रणनीति!

बॉल टेम्परिंग के बाद वॉर्नर करने लगे पार्टी, साथी खिलाड़ियों ने कहा बाहर जाओ वरना… Also Read - 4th Test: मोहम्‍मद सिराज के पांच विकेट हॉल से ऑस्‍ट्रेलिया 294 पर ऑलआउट, भारत को मिला 328 रनों का लक्ष्‍य

अपना दूसरा टेस्ट खेल रहे डिविलियर्स ने 43 रन देकर छह विकेट लिये और दक्षिण अफ्रीका ने पांच विकेट से चमत्कारिक जीत दर्ज की जबकि उस मैच में उन्हें फालोआन खेलना पड़ा था और शेन वॉर्न ने 12 विकेट लिये थे. चौबीस साल बाद वही डिविलियर्स न्यूलैंड्स में टीवी कमेंटेटर की भूमिका में थे और उन्हें शक हो गया था कि हरी भरी पिच पर नयी गेंद के साथ ऑस्ट्रेलिया को रिवर्स स्विंग कैसे मिल रही है. डिविलियर्स ने ऑस्ट्रेलियाई रेडियो स्टेशन को बताया कि उन्होंने कैमरा दल को आगाह किया था, जिसने कैमरन बेनक्रॉफ्ट को पीले टेप के टुकड़े से गेंद को रगड़ते हुए रंगे हाथों पकड़ा.

डिविलियर्स ने कहा, ‘‘हमने कैमरामैन से कहा कि देखे. वे लोग जरूर गेंद पर कुछ लगा रहे हैं. हरी भरी पिच पर इतनी जल्दी रिवर्स स्विंग नहीं मिलती. यह कोई पाकिस्तानी विकेट नहीं है कि हर सेंटीमीटर पर दरारे हो.’’

बॉल टेम्परिंग विवाद पर भड़के गांगुली, कहा स्मिथ ने मूर्खतापूर्ण हरकत की

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर के कहने पर बैनक्रॉफ्ट ने गेंद से छेड़छाड़ की, जिसके बाद तीनों खिलाड़ियों पर जुर्माना लगाया गया. बैनक्रॉफ्ट पर 75 प्रतिशत मैच फीस का जुर्माना लगा है. वहीं स्मिथ और वॉर्नर पर सौ प्रतिशत मैच फीस के साथ अगले मैच के लिए प्रतिबंधित हो गए हैं. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इन खिलाड़ियों के खिलाफ एक्शन लेने के लिए मंगलवार को बैठक बुलाई है. हालांकि अभी तक कोई फैसला नहीं आया है.