भारत-श्रीलंका के बीच खेले गए 2011 विश्व कप फाइनल मैच के फिक्स होने का दावा करना वाले श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे अब अपने बयान से पलट गए हैं। श्रीलंका के भारत को फाइनल मैच बेचने का दावा करने वाले अलुथगामगे ने अब कहा है कि उन्हें विश्व कप फाइनल मैच में फिक्सिंह होने का केवल संदेश है, और वो इसकी पूरी जांच चाहते हैं।Also Read - क्‍या संजू सैमसन ही करेंगे आगामी सीजन में राजस्‍थान रॉयल्‍स की कप्‍तानी ? कुमार संगाकारा ने बताई पूरी बात

श्रीलंका सरकार ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं और पुलिस की विशेष जांच इकाई ने बुधवार को अलुथगामगे का बयान दर्ज किया। उन्होंने पुलिस टीम से कहा कि उन्हें सिर्फ फिक्सिंग का संदेह है। Also Read - IPL 2021, SRH vs MI: Mohammad Nabi ने रचा कीर्तिमान, IPL इतिहास में ऐसा करने वाले पहले खिलाड़ी

अलुथगामगे ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं सिर्फ इतना चाहता हूं कि मेरे संदेह की जांच हो। मैंने पुलिस को उस शिकायत की प्रति दी है जो मैंने तत्कालीन खेल मंत्री के रूप में आरोपों के संदर्भ में 30 अक्टूबर 2011 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को दर्ज कराई थी।’’ Also Read - IPL 2021, RR vs MI: करारी हार के बाद टीम से खफा Kumar Sangakkara, बोले- पिच या टॉस को दोषी ठहराना गलत

अलुथगामगे ने आरोप लगाया था कि उनके देश में मैच भारत को ‘बेच’ दिया था। उनके इस दावे को पूर्व कप्तानों कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने ने बकवास करार देते हुए उनसे सबूत मांगे थे। उस समय देश के खेल मंत्री रहे अलुथगामगे ने कहा था, ‘‘आज मैं आपसे कह रहा हूं कि हमने 2011 विश्व कप बेच दिया था, मैंने यह तब कहा था जब मैं खेल मंत्री था।’’

उस समय श्रीलंका के कप्तान संगकारा ने भ्रष्टाचार रोधी जांच के लिए सबूत मुहैया कराने को कहा था। संगकारा ने ट्वीट किया, ‘‘उन्हें अपने ‘साक्ष्य’ आईसीसी और भ्रष्टाचार रोधी एवं सुरक्षा इकाई के पास लेकर जाने की जरूरत है जिससे कि दावे की विस्तृत जांच हो सके।’’

उस मैच में शतक जड़ने वाले पूर्व कप्तान जयवर्धने ने हालांकि इन आरोपों को बकवास करार दिया था। उन्होंने ट्वीट में पूछा, ‘‘क्या चुनाव होने वाले हैं?…. जो सर्कस शुरू हुआ है वो पसंद आया… नाम और सबूत?’’

अलुथगामगे ने कहा कि उनका नजरिया है कि नतीजे को फिक्स करने में खिलाड़ी नहीं बल्कि कुछ पक्ष शामिल थे।अलुथगामगे और तत्कालीन राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में हुए फाइनल में आमंत्रित किए गए थे।

इन आरोपों के बाद श्रीलंका के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी और तत्कालीन चयन समिति के अध्यक्ष अरविंद डिसिल्वा ने बीसीसीआई ने अपनी जांच कराने की अपील की है। डिसिल्वा ने कहा है कि ऐसी जांच में शामिल होने के लिए कोरोना वायरस के खतरे के बावजूद वो भारत जाने के इच्छुक हैं।