नई दिल्लीः वेस्टइंडीज को दो बार विश्व चैंपियन बनाने वाले पूर्व खिलाड़ी और कप्तान क्लाइव लायड को नाइटहुड की उपाधि देने का फैसला किया गया. वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड की तरफ से इस बात की पुष्टि कर दी गई है. नाइटहुड की उपाधि मिलने के बाद क्लाइव लॉयड, सर क्लाइव लॉयड कहलाएंगे.

वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड ने अपने ट्विटर हैंडिल पर लिखा कि क्लाइव लॉयड को नाइटहुड की उपाधि के लिए बधाइयां. नए साल के खास अवसर पर उन्हें नाइटहुड की उपाधि दी जाएगी. 75 साल को क्लाइव ने 70 के दशक में वेस्टइंडीज टीम (West Indies) की कप्तानी की थी. वह 1975 से लेकर 1985 तक वेस्टइंडीज टीम के कप्तान थे. उनके दौर में टीम ने कई रिकॉर्ड्स अपने नाम किए और टीम को एक नई ऊंचाई दी.

उन्होंने दो बार वेस्टइंडीज को वनडे विश्व कप (ICC World Cup) का खिताब जिताया था. लॉयड को क्रिकेट में उनके योगदान के लिए यह सम्मान दिया जा रहा है. लॉयड अपने जमाने के कैप्टन कूल माने जाते थे. वे बाएं हाथ के मिडिल ऑर्डर बैट्समैन रहे. उन्होंने 110 टेस्ट मैचों में 46 के औसत से 7,515 रन बनाए थे. रिटयारमेंट के बाद लॉयड वेस्टइंडीज के कोच भी रह चुके हैं. उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के लिए भी काम किया है.

वेस्टइंडीज टीम से रिटायरमेंट लेने के बाद क्लाइव कई इंटननेशनल टीमों के कोच भी रह चुके हैं और इसके साथ ही उन्होंने अंतरराष्ट्रीय परिषद में भी अपना योगदान दिया है.