नई दिल्ली: पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने रविवार को बीसीसीआई से दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) को भंग करने और वार्षिक आम सभा के दौरान झगड़े में शामिल राज्य संघ के पदाधिकारियों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की. डीडीसीए ने विज्ञप्ति में कहा कि सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से सभी प्रस्तावों को पारित किया लेकिन विवादों का हिस्सा रहे इस क्रिकेट संघ के सूत्रों ने बताया कि एजीएम में नाटकीय हालात देखने को मिले.

बैठक के दौरान हाथापाई भी हुई तथा सत्तारूढ़ गुट के संयुक्त सचिव राजन मनचंदा पर विरोधी गुट के मकसूद आलम ने तमाचा भी कसा.

भाजपा सांसद गंभीर ने एजीएम के दौरान घटी घटना को ‘शर्मनाक’ करार दिया. गंभीर ने ट्वीट किया, ‘‘डीडीसीए ने शर्मनाक तरीके से सारी हदें पार की. देखिये किस तरह से कुछ असामाजिक तत्व एक संस्थान को मजाक बना रहे हैं. मैं बीसीसीआई, सौरव गांगुली, जय शाह से डीडीसीए को तुरंत भंग करने का आग्रह करता हूं. निश्चित तौर पर इस घटना में शामिल लोगों के लिये सजा या आजीवन प्रतिबंध लगना चाहिए. ’’

(इनपुट भाषा)