कोरोना वायरस की वजह से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर लगे ब्रेक का सबसे ज्यादा फायदा ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम को हुआ, जिन्होंने भारत और पाकिस्तान को पछाड़कर टेस्ट और टी20 में नंबर एक की रैंकिंग हासिल की। हालांकि पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) इस बदलाव से नाखुश हैं। Also Read - शोएब अख्तर ने कहा- कट या पुल शॉट नहीं खेल पाते हैं विराट कोहली

स्टार स्पोर्ट्स के कार्यक्रम के दौरान गंभीर ने कहा, “नहीं, मैं इससे हैरान नहीं हूं। मैं प्वाइंट और रैंकिंग सिस्टम पर भरोसा नहीं करता। टेस्ट चैंपियनशिप की सबसे खराब बात ये थी कि चाहे आप घर पर टेस्ट मैच जीतें या बाहर, अंक आपको समान ही मिलेंगे। ये विचित्र है।” Also Read - ICC पर भड़के शोएब अख्‍तर, बोले- पिछले 10 सालों में टेस्‍ट क्रिकेट को किया बर्बाद

गंभीर ने कहा कि उनके हिसाब से भारत को ही नंबर एक पर होना चाहिए क्योंकि वो सबसे प्रतिस्पर्धी टीम है। उन्होंने कहा, “हां, 100 प्रतिशत। अगर आप पूरे प्रभाव को देखें तो भारत ने विदेशों में कई सीरीज हारी हैं लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत हासिल की। वो सबसे प्रतिस्पर्धी टीम है। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट मैच जीता, इंग्लैंड में टेस्ट जीता…ज्यादातर देशों ने ऐसा नहीं किया है।” Also Read - ब्रेट ली की गुजारिश : ऑस्ट्रेलिया नहीं पाकिस्तान, वेस्टइंडीज के खिलाफ दोहरे शतक लगाएं रोहित शर्मा

उन्होंने कहा, “मेरे लिए भारत को ही नंबर एक पर होना चाहिए क्योंकि ऑस्ट्रेलिया…..मुझे नहीं समझ आ रहा कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को नंबर एक रैंकिंग कैसे दे दी। घर से बाहर उनका प्रदर्शन बेहद खराब है, खासकर कि उपमहाद्वीप में।”