भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर को नहीं लगता कि कोविड-19 के बाद गेंदबाजों को गेंद पर लार लगाने को लेकर कोई विकल्प मिल सकता है. गंभीर ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि इसको लेकर नियम में कुछ ज्यादा फेरबदल होंगे. इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) गेंद को चमकाने के लिए लार के बजाय कृत्रिम पदार्थ के इस्तेमाल को वैध करने पर विचार कर रही है. Also Read - जानवरों से इंसानों में कैसे पहुंचा कोरोना वायरस, आखिरकार रिसर्च में हुआ खुलासा

गंभीर ने ‘स्टार स्पोर्ट्स’ से कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि काफी नियम और दिशा-निर्देश बदलेंगे, आपको शायद गेंद पर लार के इस्तेमाल का विकल्प मिल सकता है, इसके अलावा मुझे नहीं लगता कि काफी बदलाव होंगे.’ Also Read - वैज्ञानिकों ने किया खुलासा, बताया आखिर किस तरह से जानवर से मनुष्य में पहुंचता है कोरोना वायरस

‘खिलाड़ी भी हो सकते हैं संक्रमित’ Also Read - KXIP के सह-मालिक नेस वाडिया का बड़ा बयान, विदेशी खिलाड़ियों के बिना नहीं हो सकता IPL

बकौल गंभीर, ‘खिलाड़ियों और अन्य सभी को भी इस वायरस के साथ जीने की जरूरत होगी, शायद उन्हें इसका आदी होना होगा कि एक वायरस है जो हमेशा रहेगा. खिलाड़ी इससे संक्रमित भी हो सकते हैं लेकिन आपको इसके साथ ही रहना होगा.’ क्रिकेट में हालांकि कुछ हद तक सामाजिक दूरी संभव है लेकिन अन्य खेलों में ऐसा करना मुश्किल होगा.

‘सामाजिक दूरी और अन्य नियम किसी भी खेल के लिये बरकरार रखने आसान नहीं होंगे’

गंभीर ने कहा, ‘सामाजिक दूरी और अन्य नियम किसी भी खेल के लिये बरकरार रखने आसान नहीं होंगे. आप क्रिकेट में फिर भी ऐसा कर सकते हो लेकिन आप फुटबॉल, हॉकी और अन्य खेलों में यह कैसे करोगे? इसलिए मुझे लगता है कि आपको इसके साथ ही रहना होगा, और अगर आप इसे जल्दी स्वीकार कर लो तो बेहतर होगा.’

गौरतलब है कि कोरोनावायरस के कारण इस समय क्रिकेट सहित अन्य खेलों की सभी गतिविधियां ठप्प हैं.