नई दिल्ली : पाकिस्तान के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी शाहिद अफरीदी अपनी आत्मकथा ‘गेम चैंजर’ को लेकर लगातार सुर्खियां बटोर रहे हैं. उन्होंने अपनी आत्मकथा में पूर्व भारतीय बल्लेबाज गौतम गंभीर के साथ हुए विवाद के बारे में लिखा. उन्होंने गंभीर की आलोचना करते हुए कहा कि उनका अपना कोई व्यक्तित्व नहीं है और उनमें बहुत ज्यादा एटिट्यूड है. अफरीदी ने अपनी किताब में लिखा, “कुछ प्रतिस्पर्धा पर्सनल होती हैं, तो कुछ प्रोफेशनल. गंभीर का मामला दिलचस्प है. उनमें एटिट्यूड की समस्या है. गंभीर का कोई व्यक्तित्व नहीं है और क्रिकेट के खेल में उनका कोई चरित्र भी नहीं है. उनके पास कोई बड़ा रिकॉर्ड नहीं है, बस एटिट्यूड है.” Also Read - Rohit Sharma की चोट को लेकर गौतम गंभीर ने तोड़ी चुप्पी, VVS Laxman ने भी जताई हैरानी

अफरीदी ने लिखा, “कराची में हम ऐसे लोगों को सरयाल (जो हमेशा गुस्से में रहे) कहते हैं. मुझे खुश और सकारात्मक लोग पसंद हैं, यह मायने नहीं रखता कि आप कितने आक्रामक सह प्रतिस्पर्धी हैं, लेकिन आपको सकारात्मक होना चाहिए और गंभीर ऐसे नहीं थे.” Also Read - Shahid Afridi verbal spat with Naveen-ul-Haq: LPL में अफगान बॉलर से भिड़े शाहिद आफरीदी, बोले- 'बेटा, तुम्हारे पैदा होने से पहले लगा रहा हूं इंटरनेशनल क्रिकेट में सेंचुरी'

स्मिथ-वॉर्नर ने 13 महीने बाद पहनी ऑस्ट्रेलियाई टीम की जर्सी Also Read - पाकिस्तानी सैनिकों ने Ceasefire Violation किया, LoC पर BSF अफसर शहीद

राजनीति में उतर चुके गंभीर ने भी अफरीदी को शनिवार को जोरदार जवाब दिया था. गंभीर ने कहा, “शाहिद अफरीदी तुम बहुत मजाकिया हो. वैसे हम अभी भी पाकिस्तान के लोगों को इलाज कराने के लिए भारत का वीजा दे रहे हैं. मैं तुम्हें खुद मनोचिकित्सक के पास ले जाऊंगा.”

गंभीर के बयान पर अब अफरीदी ने भी प्रतिक्रिया दी है. अफरीदी ने रविवार को कराची में अपनी किताब के अनावरण के दौरान कहा, “मुझे लगता है कि गौतम गंभीर को कुछ समस्याएं हो सकती हैं. मैं अस्पतालों के साथ काम कर रहा हूं और मैं यहां उसका बहुत अच्छा इलाज करा सकता हूं.”

अफरीदी के स्पॉट फिक्सिंग खुलासे पर बवाल, BCCI ने उठाया सवाल

पाकिस्तान के पूर्व खिलाड़ी ने गंभीर को वीजा दिलाने की पेशकश भी की. अफरीदी ने कहा, “भारत सरकार आम तौर पर हमारे लोगों को वीजा नहीं देती है, लेकिन मैं भारत से आने वाले हर किसी का पाकिस्तान में स्वागत करूंगा. हमारे लोगों और हमारी सरकार ने हमेशा भारतीयों का स्वागत किया है और गौतम के लिए मैं खुद वीजा की व्यवस्था करूंगा ताकि उसका इलाज यहां हो सके.”