नई दिल्ली: भारतीय टीम के खिलाड़ी गौतम गंभीर इन दिनों क्रिकेट के मैदान से दूर चल रहे हैं. लेकिन वो सामाजिक कामों में काफी सक्रिय रहते हैं. वो एक एनजीओ भी चलाते हैं. जो कि गरीबों की मदद करता है. उनकी संस्था गरीबों को मुफ्त में खाना उपलब्ध करवाती है. गंभीर को क्रिकेट के साथ साथ अब समाज से जुड़े अच्छा कामों के लिए भी जाना जाने लगा है. इसी क्रम में उन्होंने एक बार मिसाल पेश की. उन्होंने रक्षाबंधन के मौके पर एक ऐसा काम किया जिसके लिए सभी उन्हें सलाम कर रहे हैं. Also Read - आज के दिन, 13 साल पहले धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने जीता था पहला टी20 विश्व कप

Also Read - 'धोनी का 7वें नंबर पर उतरना समझ से परे, बाद में 3 छक्के जड़ने का क्या फायदा, ये तो उनके निजी रन थे'

दरअसल गंभीर ने दो ट्रांसजेंडर्स को अपनी बहन बनाया है. उन्होंने रक्षाबंधन के मौके पर अबीना अहर और सिमरन शेख नाम की ट्रांसजेंडर्स से राखी बंधवा कर मिसाल पेश की. गंभीर ने अपने ऑफीशियल ट्विटर हैंडल पर फोटो भी शेयर की है, जिसमें उनके साथ अबीना और सिमरन भी मौजूद हैं. गंभीर ने फोटो शेयर करने के साथ ही एक मोटिवेशनल कैप्शन भी लिखा. गंभीर ने मानवता से जुड़ी कुछ लाइन्स लिखते हुए अबीना और सिमरन को अपनी बहन स्वीकार किया. Also Read - गौतम गंभीर ने किया विश्‍लेषण, बताया पहले टी20 में मुंबई-चेन्‍नई में से किसकी होगी जीत

विराट कोहली ने अनुष्का संग शेयर की फोटो, ट्रोलर्स ने बनाया मजाक

गंभीर ने ट्विटर पर लिखा, ”इसका पुरुष या महिला होने से मतलब नहीं है. यहां मानवता के मायने हैं.” गंभीर के इस खास कदम की काफी सराहना की जा रही है. सोशल मीडिया पर भी गंभीर को सराहा गया. उनकी इस फोटो को हजारों लाइक और शेयर मिले हैं. गौरतलब है कि गंभीर एक छोटी बहन भी हैं. उनका नाम एकता है. एकता और गौतम भाई-बहन होने के साथ अच्छे दोस्त भी हैं.

जसप्रीत बुमराह की गेंदबाजी पर पूर्व क्रिकेटर ने उठाया सवाल, आलोचन में कही ये बात

बता दें कि गंभीर सामाजिक कार्यों में काफी सक्रिय रहते हैं. उनका एक एनजीओ भी है, जिसका नाम गौतम गंभीर फाउंडेशन है. इस एनजीओ का मुख्य काम शहीदों के परिवारों की मदद करना है और इसके साथ-साथ गरीबों की मदद भी करता है. इसमें स्वास्थ्य और भोजन शामिल हैं.