भारतीय टीम के पूर्व कप्‍तान और मौजूदा समय में बीसीसीआई चेयरमैन सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) का कार्यकाल इसी महीन के अंत में खत्‍म हो रहा है. गांगुली और बीसीसीआई सचिव जय शाह ने अपना कार्यकाल बढ़ाने के संबंध में सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी लगाई हुई है. इसी बीच पूर्व सलामी बल्‍लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने गांगुली को आईसीसी चेयरमैन बनाने की सिफारिश की है. Also Read - टीम इंडिया की ‘किट स्‍पॉन्‍सरशिप’ के लिए इन दो कंपनियों में लगी होड़, NIKE का करार हो रहा है खत्‍म

गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने कहा कि क्रिकेट की शीर्ष संस्था में शीर्ष प्रबंधन में प्रतिनिधित्व रहना भारत के लिए अच्छा होगा.
शशांक मनोहर (Shashank Manohar) ने एक जुलाई को आईसीसी के चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया था. वह दो बार दो-दो साल तक इस पद पर रहे थे. Also Read - 19 नवंबर से घरेलू क्रिकेट को बहाल कर सकती है BCCI, शुरुआती मैचोंं में नहीं खेल पाएंगे IPL में खेलने वाले खिलाड़ी

गौतम गंभीर ने न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस से कहा, “मुझे नहीं पता कि सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) क्या सोच रहे हैं, लेकिन हां, अगर आईसीसी के शीर्ष प्रबंधन में भारत का प्रतिनिधत्व रहता है तो यह देश के लिए अच्छी बात होगी. भारत को आईसीसी में लोकतांत्रिक प्रतिनिधित्व की जरूरत है. Also Read - विराट कोहली का भावुक VIDEO, कभी भी RCB को छोड़ने के बारे में नहीं सोच सकता

हाल ही में सौरव गांगुली ने (Sourav Ganguly) यह बयान दिया था कि वो अभी बीसीसीआई में ही रहते हुए आगे अपनी सेवाएं देना चाहते हैं. गांगुली इस बात से नाखुश हैं कि बीसीसीआई अध्‍यक्ष के तौर पर इतने छोटे से कार्यकाल के दौरान चार महीने कोरोनावायरस की भेंट चढ़ गए.