नई दिल्ली: मौजूदा विजेता जर्मनी फीफा विश्व कप-2018 के अपने पहले मैच में रविवार को ग्रुप-एफ के अपने पहले मुकाबले में मेक्सिको के खिलाफ उतरेगा. जर्मनी ने 2014 में ब्राजील में खेले गए विश्व कप में अर्जेंटीना को मात देकर खिताब अपने नाम किया था. चार बार कि विजेता को इस बार भी खिताब की प्रबल दावेदार माना जा रहा है. जर्मनी ने क्वालीफाइंग दौर में शानदार प्रदर्शन करते हुए सभी 10 मैच जीते थे. इन मैचों में उसने सिर्फ 10 गोल खाए थे. उसने पिछले साल कन्फेडेरेशन कप भी अपने नाम किया था, लेकिन उसकी हालिया फॉर्म संतोषजनक नहीं रही है.

कोच जोएचिम लोव की यह टीम अपने पिछले छह अंतर्राष्ट्रीय मैचों में सिर्फ एक जीत हासिल कर पाई है वो भी सऊदी अरब जैसी टीम के खिलाफ. इस टीम को हाल ही में विवाद का सामना भी करना पड़ा है. टीम के दो बड़े खिलाड़ियों- इल्के गुंडोगेन और मेसुट ओजिल को तुर्की के राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद माहौल गरमा गया था और टीम के रूस पहुंचने तक भी यह विवाद हवा में था.

टीम इंडिया को मिला रायडू को विकल्प, BCCI ने इस दिग्गज खिलाड़ी को दी जगह

इन सबसे परे हालांकि जर्मनी का इस बार भी अंतिम-4 में जाना तय माना जा रहा है और मैक्सिको के खिलाफ उसे जीत का प्रबल दावेदार भी माना जा रहा है. जर्मनी ने कन्फेडेरेशन कप में मेक्सिको को 4-1 से मात दी थी.

FIFA WorldCup: आइसलैंड ने अर्जेंटीना को 1-1 की बराबरी पर रोका, पेनाल्टी गोल नहीं दाग पाए मेसी

वहीं मेक्सिको की बात की जाए तो दक्षिण अमेरिका की इस टीम ने अपने अंतिम छह विश्व कप में हमेशा अंतिम-16 में प्रवेश किया है. जर्मनी को अगर मात देनी है तो मैक्सिको को अपन खेल में तेजी लानी पड़ेगी. टीम का दारोमदार टीम के शीर्ष स्कोरर जेवियर हर्नाडेज पर होगा. टीम के कोच ने दोस्ताना मैचों में अपने सभी पत्ते नहीं खोले थे इसलिए यह कह पाना मुश्किल है कि वह किस रणनीति के साथ मैदान पर उतरेंगे.