भारत और न्यूजीलैंड के बीच 2 मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट मैच 21 फरवरी से खेला जाएगा. टीम इंडिया इस समय न्यूजीलैंड इलेवन के खिलाफ 3 दिवसीय प्रैक्टिस मैच खेल रही है. टेस्ट सीरीज को लेकर न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ग्लेन टर्नर ने कहा है कि उन्हें हैरानी है कि मौजूदा द्विपक्षीय सीरीज में भारत के पास जसप्रीत बुमराह की अगुवाई में शानदार तेज आक्रमण होते हुए भी फिलहाल मेजबान का पलड़ा भारी लग रहा है. टर्नर को हालांकि उम्मीद है कि बुमराह और मोहम्मद शमी टेस्ट सीरीज में बेहतर प्रदर्शन करेंगे . Also Read - Jasprit Bumrah ने जन्‍मदिन पर पत्‍नी Sanjana Ganesan के लिए लिखा प्‍यार भरा पोस्‍ट, जेम्‍स नीशम ने ट्रेंट बोल्‍ट का नाम लेकर यूं ली चुटकी

NZXIvsIND Warm-up Match: हनुमा विहारी का शतक, पुजारा चूके, पृथ्वी-शुबमन गिल का नहीं खुला खाता, पंत 7 रन बनाकर आउट Also Read - Veda Krishnamurthy पर टूटा दुखों का पहाड़, मां के बाद कोरोना ने छीनी अब बहन की जिंदगी

पांच मैचों की टी20 सीरीज 5-0 से जीतने के बाद भारत ने वनडे सीरीज 0-3 से गंवा दी. टर्नर ने प्रेस ट्रस्ट को दिये इंटरव्यू में कहा,‘मेरे पास टी20 क्रिकेट के लिए बिल्कुल समय नहीं है. यह खेल पर धब्बा है. पचास ओवरों के मैच में खेल होता है. मुझे लगता है कि दोनों टीमों के गेंदबाजों ने काफी निराश किया. इस समय न्यूजीलैंड का पलड़ा भारी लग रहा है लेकिन मैं हैरान हूं. मुझे समझ नहीं आ रहा कि भारतीय टीम का प्रदर्शन वनडे सीरीज में बेहतर क्यों नहीं रहा.’ Also Read - ICC Rankings: इंग्लैंड को पछाड़ वनडे में नंबर-1 टीम बनी न्यूजीलैंड; नीचे खिसकी टीम इंडिया

टर्नर ने कहा कि टेस्ट में भारत को दिक्कत हो सकती है क्योंकि उसने सफेद गेंद से काफी क्रिकेट खेली है. उन्होंने कहा,‘शमी प्रतिभाशाली है और उसमें दमखम भी है. टेस्ट सीरीज शुरू होने पर उसका प्रदर्शन बेहतर होगा क्योंकि इसमें सीमित ओवरों की परिस्थितियां नहीं रहेंगी.’

उन्होंन बुमराह के बारे में कहा ,‘अपारंपरिक गेंदबाजी एक्शन होने के बावजूद वह नैसर्गिक प्रतिभा का धनी है. उसकी गेंदें सटीक होती है और वनडे में उसका प्रदर्शन अच्छा रहा. वैसे वनडे से टेस्ट क्रिकेट के लिए स्टेमिना बनाने में मदद नहीं मिलती जहां दिन के 25 ओवर डालने होते हैं.’

IPL 2020: क्या नया लोगो विराट कोहली की कप्तानी वाली RCB फ्रेंचाइजी की किस्मत बदल पाएगा?

टर्नर ने केन विलियमसन को अच्छा कप्तान बताते हुए कहा कि ब्रेंडन मैक्कुलम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कप्तानी के योग्य नहीं थे जबकि स्टीफन फ्लेमिंग के कार्यकाल में खिलाड़ी अधिक ताकतवर हो गए. उन्होंने कहा ,‘केन का रवैया पारंपरिक है. मुझे उसका रवैया पसंद है और वह काफी स्थिर है. उसमें दबाव में बेहतर प्रदर्शन करने और कराने का हुनर है.’