शशांक मनोहर का इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) चेयरमैन के तौर पर कार्यकाल इस महीने समाप्त हो जाएगा. मौजूदा हालात में ऐसा भी हो सकता है कि मनोहर का कार्यकाल दो महीने के लिए बढ़ा दिया जाए. लेकिन क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के क्रिकेट निदेशक ग्रीम स्मिथ ने आईसीसी के चेयरमैन के पद के लिए बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली के नाम का समर्थन किया है.Also Read - BCCI चाहता था अपना 100वां टेस्ट बतौर भारतीय कप्तान खेलें Virat Kohli, लेकिन नहीं मानें विराट

स्मिथ की इस बात का समर्थन उनके मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक फॉल ने भी किया, जिन्होंने कहा कि उन्हें इस भारतीय के आईसीसी प्रमुख पद पर आने से कोई परेशानी नहीं हैं, हालांकि उन्हें अपने शीर्ष अधिकारियों से इसकी मंजूरी की जरूरत होगी. Also Read - टीम इंडिया की कप्तानी का मौका मिलना सम्मान की बात होगी: जसप्रीत बुमराह

स्मिथ का खुले तौर पर गांगुली का समर्थन करना नया मोड़ है क्योंकि इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के पूर्व अध्यक्ष कोलिन ग्रेव्स अब तक प्रबल दावेदार के तौर पर चल रहे थे. Also Read - Virat Kohli का कप्तानी छोड़ने का फैसला बिल्कुल सही, अब वह खुल कर खेल पाएंगे: Kapil Dev

स्मिथ का खुले तौर पर गांगुली का समर्थन करना नया मोड़ है क्योंकि इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष कोलिन ग्रेव्स अब तक प्रबल दावेदार के तौर पर चल रहे थे.

‘गांगुली को आईसीसी अध्यक्ष पद की भूमिका में देखना शानदार होगा’

स्मिथ ने गुरुवार को पत्रकारों से कहा, ‘हमारे लिए सौरव गांगुली जैसे क्रिकेटर को आईसीसी के अध्यक्ष पद की भूमिका में देखना शानदार होगा.’

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान ने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह खेल के लिए भी अच्छा होगा, यह आधुनिक खेल के लिए भी अच्छा होगा. वह इसे समझते हैं, वह उच्च स्तर तक क्रिकेट खेल चुके हैं, उनका सम्मान किया जाता है और उनकी नेतृत्व क्षमता इसके लिए अहम होगी.’

गॉवर ने भी किया सीएसए का समर्थन 

सीएसए के समर्थन से पहले इंग्लैंड के पूर्व कप्तान डेविड गॉवर ने भी भारत के पूर्व कप्तान को आईसीसी अध्यक्ष बनने के लिए सही व्यक्ति करार किया था. स्मिथ ने कहा कि गांगुली की खेल समझ विश्व संस्था के अध्यक्ष पद में उनकी मदद करेगी.

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि हमारे खेल में कप्तानी आगे बढ़ने के लिए अहम होती है और मुझे लगता है कि उस स्तर का व्यक्ति इस पद पर बैठने वाले अन्य व्यक्ति की तुलना में आधुनिक खेल और आगे आने वाली चुनौतियों को बखूबी समझता है.’

गांगुली पिछले कुछ समय से ज्यादा बातचीत नहीं कर रहे हैं और भविष्य की योजनाओं को साझा करने को तैयार नहीं हैं, हालांकि तकनीकी रूप से बीसीसीआई अध्यक्ष पद से उनका कार्यकाल नये संविधान के हिसाब से जून में समाप्त हो रहा है जिसके अंतर्गत वह राज्य और राष्ट्रीय संस्था में अधिकारी के तौर पर लगातार छह वर्ष पूरे कर लेंगे.