पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर और भारतीय टीम के कोच रहे चुके ग्रेग चैपल (Greg Chappell) का कहना है कि अगर टीम इंडिया ने टेस्ट क्रिकेट को छोड़ दिया तो क्रिकेट का ये सबसे पुराना फॉर्मेट खत्म हो जाएगा। Also Read - Coronavirus: केंद्र सरकार ने शॉपिंग मॉल के लिए जारी की नई गाइडलाइंस, जानें नियम

प्लेराइट फाउंडेशन के फेसबुक अकाउंट पर लाइव चैट के दौरान पूर्व खिलाड़ी ने कहा, “जिन दिन भारत ने इसे छोड़ दिया टेस्ट क्रिकेट मर जाएगा। मैं भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के अलावा बाकी देशों को अपने युवा खिलाड़ियों को टेस्ट क्रिकेट अपनाने के लिए प्रेरित करते नहीं देखता।” Also Read - रिकॉर्ड: 24 घंटे में 9 हज़ार से अधिक कोरोना मरीज मिले, संक्रमितों की संख्या 2 लाख 16 हज़ार पार

उन्होंने कहा, “मुझे टी20 क्रिकेट से कोई परेशानी नहीं है। इसे जनता को बेचना बहुत आसान है। लेकिन टेस्ट के लिए कमाई का मुद्दा बड़ा होने वाला है। लेकिन साथ ही भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने टेस्ट मैच को सर्वश्रेष्ठ फॉर्मेट बताया है, इसलिए इसके बचने की कुछ उम्मीद है।” Also Read - कोरोना: महाराष्ट्र में 24 घंटे में रिकॉर्ड 123 मौतें, संक्रमितों की संख्या 78 हज़ार के करीब, मौत का आंकड़ा 2700 पार

साल 2005 से 2006 तक भारतीय टीम के कोच रहे चैपल के कार्यकाल के दौरान भारतीय टीम काफी विवादों में रही, खासकर तत्कालीन कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) और चैपल के बीच के मतभेदों की वजह से।

भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने अपनी आत्मकथा ‘प्लेइंट इट माई वे’ में चैपल को रिंगमास्टर कहा। उनकी किताब में कहा गया कि चैपल अक्सर बिना खिलाड़ियों से चर्चा किए और उनका मत जाने बिना ही फैसले ले लेते थे।