भारत और श्रीलंका के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज का आगाज गुवाहाटी के बरसापारा स्टेडियम में रविवार को होना था, लेकिन पहले बारिश और फिर पिच गीली होने के कारण मैच को रात करीब 10 बजे रद्द कर दिया गया था. असम क्रिकेट संघ (एसीए) के सचिव देवजीत सैकिया ने यह खुलासा किया है कि मैच रद्द होने से एक घंटे पहले यानि नौ बजे ही अधिकांश खिलाड़ी मैदान छोड़कर जा चुके थे.

न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस से बातचीत के दौरान सैकिया ने कहा, “जब खिलाड़ी नौ बजे ही मैदान छोड़कर जा चुके थे तो ऑन फील्‍ड अंपायर्स और मैच रेफरी डेविड बून ने पिच के निरीक्षण का समय 9:30 क्‍यों रखा. यह मेरे लिए भी रहस्य है और मुझे इसके बारे में पता लगाना होगा क्योंकि अधिकतर खिलाड़ी नौ बजे जा चुके थे.”

पढ़ें:- BBL: कोलकाता नाइट राइडर्स के टॉम बैन्टन ने 16 गेंदो पर अर्धशतक जड़ा, एक ओवर में लगाए 5 छक्के

बताया गया कि मैच को रद्द करने की घोषणा देर से इसलिए की गई ताकि दर्शक अनियंत्रित नहीं हो जाएं. यह आम तौर पर पालन किया जाने वाला प्रोटोकॉल है. मैंने आपको कड़वी सच्चाई बताई है.

सैकिया ने बताया कि मैच अधिकारियों ने ग्राउंड स्टाफ से 8:45 तक मैदान को खेलने के लिए तैयार करने के आदेश दिए थे और कहा था कि अगर ऐसा नहीं हो पाया तो मैच रद्द करना होगा.

एएसए के सचिव ने आगे कहा, “एक घंटे तीन मिनट तक भारी बारिश जारी रही और अंपायरों ने कहा कि उन्हें 8:45 तक मैदान तैयार चाहिए, अन्यथा मैच रद्द करना होगा. ग्रांउड स्टाफ को मैदान सुखाने के लिए सिर्फ 57 मिनट दिए गए. अगर हमारे पास कुछ और समय होता तो हम मैदान तैयार कर देते.”

पढ़ें:- न्यूजीलैंड को क्लीन स्वीप पर टिम पेन ने कहा- स्मिथ, वार्नर ने बल्लेबाजी को मजबूत किया

“यह बारिश बेमौसम थी क्योंकि जनवरी में कभी बारिश नहीं होती है. कल दिन में भी यहां भारी बारिश हुई थी, लेकिन हमने मैदान समय से तैयार कर दिया था और टॉस भी 6:30 बजे हो गया था. मैच भी 7 बजे शुरू होना था लेकिन 6:50 पर बारिश आ गई जो 7:53 तक चली.”

“6:30 के बाद मैदान मैच रेफरी और अंपायरों के पास चला गया था और वही लोग हमारे क्यूरेटरों को आदेश दे रहे थे. अगर हमें एक या डेढ़ घंटा ज्यादा दिया जाता तो मैदान तैयार हो गया होता.”