क्रिकेट के ‘जनक’ इंग्लैंड को 44 साल बाद पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनाने में जिस खिलाड़ी ने अहम भूमिका निभाई थी वह थे ऑलराउंडर बेन स्टोक्स. दाएं हाथ से गेंदबाजी और बाएं हाथ से बल्लेबाजी करने वाला ये स्टार ऑलराउंडर आज 4 जून 2020 को अपना 29वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहा है. गेंद और बल्ले दोनों से शानदार प्रदर्शन करने वाले स्टोक्स का जन्म 1991 में न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हुआ था.Also Read - भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले इंग्लैंड को बड़ा झटका, बेन स्टोक्स ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लिया अनिश्चितकालीन ब्रेक

2011 में इंटरनेशनल क्रिकेट में रखा कदम  Also Read - England vs Pakistan: इंग्‍लैंड की टी20 टीम में इयोन मोर्गन की वापसी, वनडे टीम के नए चेहरों को मिला मौका

बेन स्टोक्स ने अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुआत 2011 में आयरलैंड के खिलाफ वनडे के जरिए की थी. उन्होंने 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट में डेब्यू किया था. न्यूजीलैंड में पले-बढ़े स्टोक्स आज दुनिया के बेहतरीन ऑलराउंडर्स में शुमार किए जाते हैं. Also Read - IPL vs PSL: शोएब अख्‍तर से पूछा गया कौन सी क्रिकेट लीग है बेहतर, दिया मजेदार जवाब

63 टेस्ट मैचों में 9 शतकों के साथ स्टोक्स ने अब तक कुल 4056 रन बनाए हैं जिसमें उनका बेस्ट स्कोर 258 रन रहा है. इस दौरान उन्होंने 147 विकेट भी अपने नाम किए हैं. 95 वनडे मैचों में स्टोक्स के नाम 2682 रन दर्ज हैं जिसमें 3 शतक शामिल है. वनडे में वह अब तक 70 विकेट अपने नाम कर चुके हैं. क्रिकेट के सबसे छोटे यानी टी-20 के फॉर्मेट में स्टोक्स ने अब तक 26 मैचों में 305 रन जुटाए हैं. इसके अलावा 14 विकेट भी निकाले हैं.

स्टोक्स जब 13 साल के थे तब उनका परिवार इंग्लैंड में आकर बस गया था. उनके पिता गेरार्ड स्टोक्स रग्बी के खिलाड़ी और कोच भी रह चुके हैं. स्टोक्स को खेल अपने पिता से विरासत में मिली है.

ऐसे बनाया इंग्लैंड को वर्ल्ड चैंपियन

2019 वर्ल्ड कप के फाइनल में इंग्लैंड और न्यूजीलैंड की टीमें आमने-सामने थीं. इस मैच में कीवी टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 241 रन बनाए थे. इंग्लैंड के सामने 242 रन का लक्ष्य था लेकिन इंग्लिश टीम 241 रन ही बना सकी और मुकाबला टाई हो गया. इस वजह से यह मैच सुपर ओवर में चला गया. सुपर ओवर में इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड के सामने 16 रन का लक्ष्य दिया. सुपर ओवर में भी मैच टाई रहा लेकिन मैच के दौरान और सुपर ओवर में कुल मिलाकर ज्यादा बाउंड्री लगाने की वजह से इंग्लैंड विजेता बनी.

वर्ल्ड कप के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब फाइनल मैच सुपर ओवर में गया. इंग्लैंड की ओर से सर्वाधिक रन बेन स्टोक्स ने बनाए थे. स्टोक्स 98 गेंदों पर 84 रन बनाकर नाबाद रहे. स्टोक्स ने विकेटकीपर जोस बटलर के साथ पांचवें विकेट के लिए 110 रन की साझेदारी कर टीम को मुश्किल से निकाला. बटलर ने 60 गेंदों में 6 चौकों कर मदद से 59 रन बनाए.

सुपर ओवर में भी इंग्लैंड ने बल्लेबाजी के लिए बेन स्टोक्स और जोस बटलर पर भरोसा जताया. बेन स्टोक्स ने सुपर ओवर में भी टीम को निराश नहीं किया. उन्होंने 3 गेंदों पर 1 चौके की मदद से 8 रन बनाए.

बैड ब्वॉय भी रहे

स्टोक्स इंग्लिश क्रिकेट के बैड ब्वॉय भी रहे. साल 2016 में ब्रिस्टल के एक नाइट क्लब के बाहर हाथापाई की वजह से वह गिरफ़्तार भी हुए और मामला अदालत तक पहुंचा. इस विवाद की वजह से वह एशेज सीरीज से भी बाहर रहे. चार बार इंग्लैंड में तेज गति से गाड़ी चलाने के दोषी पाए गए. 2011 में भी शराब के नशे में डरहम में ट्रैफिक पुलिस के साथ भिड़ गए थे.

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में स्टोक्स राइजिंग पुणे सुपरजाइंट के लिए खेल चुके हैं. पिछली बार खिलाड़ियों की नीलामी में राजस्थान रॉयल्स ने उन्हें अपने साथ जोड़ा है.