नई दिल्ली. भारत समेत दुनिया के दर्जनभर से ज्यादा देशों में आज क्रिकेट को दीवानगी की हद तक पसंद किया जाता है. भारत में तो इस खेल को ‘धर्म’ तक का दर्जा दे दिया जाता है. आज इसी क्रिकेट का अनौपचारिक जन्मदिन है. अनौपचारिक इसलिए, क्योंकि वैसे तो इंग्लैंड में क्रिकेट का खेल काफी पहले शुरू हो गया था, लेकिन पहला अंतरराष्ट्रीय मैच आज ही के दिन (15 मार्च) को खेला गया था. वर्ष 1877 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया मैच टेस्ट क्रिकेट के इतिहास का पहला मैच था. यह मुकाबला मेलबर्न में खेला गया था और इसमें जीत मेजबान ऑस्ट्रेलिया ने दर्ज की थी. यह रोचक है कि उस समय क्रिकेट के नौसिखिए ऑस्ट्रेलिया ने इस खेल के जन्मदाता देश इंग्लैंड को 45 रनों से मात दी थी. 15 मार्च को शुरू हुए इस पहले मुकाबले का नतीजा चौथे दिन यानी 19 मार्च को आया था. इस टेस्ट मैच की एक और खासियत थी, वह यह कि इसकी कोई समय-सीमा तय नहीं की गई थी.

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला टेस्ट मैच शुरू होने से पहले इस खेल के कुछ नियम भी तय किए गए थे. नियमों के मुताबिक तय हुआ कि दोनों टीमें दो-दो पारियां खेलेंगी. जब तक दोनों टीमों की पारियां खत्म नहीं हो जाएंगी, तब तक यह मैच चलता रहेगा. 1877 में शुरू हुआ टेस्ट क्रिकेट वर्ष 1888 तक दुनिया में सिर्फ इन्हीं दो देशों के बीच खेला जाता रहा. वर्ष 1889 में इस खेल में तीसरे देश ने इंट्री ली और वह था दक्षिण अफ्रीका. आज इंटरनेशनल क्रिकेट को शुरू हुए 142 साल हो चुके हैं और अब भी सिर्फ 12 देश ही टेस्ट क्रिकेट खेलते हैं. क्रिकेट के जन्मदिन पर आइए आज जानते हैं इस खेल से जुड़े कुछ रोचक तथ्य…

1- अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का पहला टेस्ट मैच 15 से 19 मार्च तक खेला गया था. इस मैच में इंग्लैंड के खिलाड़ी अल्फ्रेड शॉ ने पहली गेंद डाली थी, जिसका सामना ऑस्ट्रेलिया के चार्ल्स बैनरमैन ने किया था. इसी मैच में चार्ल्स ने 165 रन बनाकर पहला शतक भी लगाया. ऑस्ट्रेलिया ने पहली इनिंग में 245 और दूसरी में 104 रन बनाए. जबकि इंग्लैंड पहली पारी में 196 और दूसरी में 108 रन ही बना सका था.

2- इंटरनेशनल क्रिकेट की पहली त्रिकोणीय श्रृंखला वर्ष 1912 में खेली गई. इसमें ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका ने भाग लिया. कुल 9 मैच खेले गए, जिसमें इंग्लैंड ने 4, ऑस्ट्रेलिया ने 2 मैच जीते, जबकि 3 मैच ड्रॉ हुए थे.

3- भारत ने अपना पहला इंटरनेशनल टेस्ट मैच वर्ष 1932 में खेला था. वह टेस्ट खेलने वाला छठा देश बना. इंग्लैंड के साथ 25 से 28 जून तक खेले गए इस मैच में अंग्रेजों ने टीम इंडिया को 158 रनों से हराया था. भारत से पहले टेस्ट मैच खेलने वाली टीमें न्यूजीलैंड और वेस्टइंडीज थीं.

पॉली उमरीगर

 

4- वर्ष 1952 में भारत ने अपना पहला टेस्ट मैच जीता था. चेन्नई में खेले गए इस मैच में टीम इंडिया ने उसी इंग्लैंड को पारी और आठ रनों से हराया, जिसने उसे पदार्पण मैच में मात दी थी. इस मुकाबले में पॉली उमरीगर ने 130 और पंकज रॉय ने 111 रन बनाए थे. वीनू मांकड़ ने मैच में 12 विकेट लिए थे.

5- इंटरनेशनल क्रिकेट का पहला वनडे मैच वर्ष 1971 में खेला गया था. 5 जनवरी का यह मैच भी ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच ही खेला गया. यह रोचक है कि टेस्ट के साथ-साथ वनडे मुकाबले में भी ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को हरा दिया था.

6- अब बात करते हैं वर्ल्डकप की. वर्ष 1975 में पहला क्रिकेट विश्व कप इंग्लैंड में हुआ. इसमें 8 देश शामिल थे. सभी टीमों ने 15 मैच खेले और वेस्टइंडीज की टीम ने क्लाइव लॉयड की कप्तानी में टूर्नामेंट जीता. भारत की टीम पहले विश्वकप में सिर्फ 3 मैच खेल पाई थी. इंग्लैंड और न्यूजीलैंड से हारने वाली टीम इंडिया ने ईस्ट अफ्रीका के खिलाफ ही मैच जीता था.

क्लाइव लॉयड.

 

7- वनडे क्रिकेट शुरू होने के महज 12 साल बाद भारत इस खेल का वर्ल्ड चैंपियन बना था. वर्ष 1983 में भारत ने कपिल देव की कप्तानी में पहला विश्व कप जीता. भारत की जीत, क्रिकेट इतिहास में टर्निंग प्वाइंट कही जा सकती है, क्योंकि भारत की जीत के बाद ही क्रिकेट गलियों-गांवों तक पहुंचा, दुनियाभर में इसकी धूम मची.

8- फटाफट क्रिकेट यानी टी-20 क्रिकेट वर्ष 2005 में शुरू हुआ. पहला टी-20 इंटरनेशनल मैच 17 फरवरी को एक बार फिर ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच खेला गया और इतिहास फिर दोहराया गया. ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को क्रिकेट के इस तीसरे फॉर्मेट में भी 44 रन से हराया. इस तरह ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट के तीनों स्वरूपों में पहला मैच जीतने वाला और इंग्लैंड हारने वाला देश बना.

9- वर्ष 2007 तो हर भारतीय को याद होगा, क्योंकि इसी साल टी-20 क्रिकेट का पहला विश्व कप खेला गया और जिसे भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में जीता था. दक्षिण अफ्रीका में खेले गए इस टूर्नामेंट में 12 टीमों ने शिरकत की थी. टी-20 वर्ल्डकप के फाइनल में भारत ने परंपरागत प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को हराकर खिताब जीता था.

10- फटाफट क्रिकेट का मॉडर्न-वर्जन यानी IPL की बात करें तो इसकी शुरुआत 2008 में हुई. इंडियन प्रीमियर लीग आज की तारीख में दुनिया की सबसे पॉपुलर क्रिकेट लीग मानी जाती है.