नई दिल्ली. टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर एंड्र्यू साइमंड्स (Andrew Symonds) के बीच 10 साल पहले हुआ ‘Monkeygate’ विवाद एक बार फिर चर्चा में है. वर्ष 2007-08 के दौरान भारतीय टीम के ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान सिडनी टेस्ट मैच में हरभजन सिंह पर यह आरोप लगाया गया था कि उन्होंने कंगारू टीम के खिलाड़ी एंड्र्यू साइमंड्स को ‘Monkey’ कहा. टेस्ट मैच के दौरान उठे इस विवाद को लेकर ऑस्ट्रेलियाई टीम ने विरोध जताया था. इस कारण हरभजन पर 3 मैचों का प्रतिबंध लगाया गया.

इस पर भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया दौरा बीच में ही खत्म करने की धमकी दी, जिससे दोनों देशों के क्रिकेट संबंधों में खटास आ गई थी. बहरहाल, सिडनी टेस्ट की इस घटना के 10 साल बाद यह प्रकरण एक बार फिर चर्चा में है. क्योंकि पिछले महीने एंड्र्यू साइमंड्स ने मीडिया के साथ बातचीत में खुलासा किया कि हरभजन ने इस मामले में उनसे माफी मांग ली है.

साइमंड्स के इस बयान पर भारतीय क्रिकेटर ने त्वरित प्रतिक्रिया देते हुए आपत्ति जताई थी कि ऐसा कब हुआ? हरभजन सिंह ने रविवार को इस मामले में ट्वीट करते हुए अपनी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने साइमंड्स द्वारा दिए गए बयान को झूठा करार दिया और कहा कि माफी जैसी कोई बातचीत उन दोनों के बीच कभी नहीं हुई थी. हरभजन ने क्रिकेट वेबसाइट की खबर शेयर करते हुए पूछा भी, ‘यह कब हुआ? कब मैंने माफी मांगी? किस बात के लिए’.

हरभजन सिंह ने इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर पर तंज कसते हुए कहा कि कंगारू टीम का यह खिलाड़ी क्रिकेटर के बजाए अच्छा कहानीकार बन गया है. हरभजन ने अपने ट्वीट में कहा, ‘मैं समझता था कि वह बहुत अच्छा क्रिकेटर था, लेकिन साइमंड्स अब क्रिकेटर के बजाए अब अच्छा फिक्शन-राइटर (कथाकार) बन गया है. उसने तब भी (2008 में) अपनी कहानी को बेचा था और आज भी (2018 में) अपनी कहानी बेच रहा है. दोस्त, इन 10 वर्षों में दुनिया बदल गई है और तुम भी बड़े हो गए हो.’