नई दिल्ली. टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने डॉक्टर भीमराव आंबेडकर को सोशल मीडिया पर अपमानित करने की बात से इंकार कर दिया है. पांड्या उस वक्त विवादों में घिर गए थे जब उनके नाम के एक फर्जी ट्विटर हैंडल से अंबेडकर की आरक्षण नीति के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी. यही नहीं मामले के तूल पकड़ने के बाद जोधपुर की स्पेशल कोर्ट ने हार्दिक पांड्या के खिलाफ केस दर्ज करने के आदेश भी जारी कर दिए थे. लेकिन अब इस मामले पर पांड्या खुलकर सामने आए और उन्होंने अपने ऑफिशिएल ट्विटर अकाउंट से बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर के खिलाफ किसी भी टिप्पणी से इंकार किया है. Also Read - नताशा ने किया Kiss तो हार्दिक पांड्या हुए रोमांचित, इमोजी बना बता दी अपनी चाहत

ट्विटर पर पांड्या का स्टेटमेंट

ट्विटर पर जारी किए अपने स्टेटमेंट में पांड्या ने लिखा है, ”मीडिया में कई गुमराह करने वाली खबरें चली हैं, जिसमें आरोप लगाया गया है कि मैंने एक ऐसी पोस्ट की है जिसमें भीमराव अंबेडकर को बेइज्जत किया गया है. मैं ये साफ कर देना चाहता हूं कि इस तरह की कोई भी ट्वीट या बयान मैंने सोशल मीडिया पर या कहीं और भी जारी नहीं किया है.”

पांड्या ने कहा, ”मेरे दिल में अंबेडकर, भारतीय संविधान और सभी सुमदायों के लिए काफी इज्जत है. मैं कभी इस तरह के विवाद में नहीं पड़ता जिसमें किसी समुदाय को निशाना बनाया जाए. मैं सोशल मीडिया का इस्तेमाल अपने प्रशंसकों से जुड़ने के लिए करता हूं.”

भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर ने कहा, “जो ट्वीट सवालों के घेरे में है, जिसमें मेरा नाम और मेरी तस्वीर है, वो अकाउंट फर्जी है. मैं कोई भी आधिकारिक संवाद करने के लिए अपने वैरिफाइड ट्विटर अकाउंट का इस्तेमाल करता हूं.”

पांड्या का विवादित ट्वीट

इससे पहले पांड्या के जिस ट्विट को लेकर बवाल मचा और नौबत यहां तक आ पहुंची कि उनके खिलाफ FIR दर्ज करना पड़े वो इस प्रकार है- ”आंबेडकर कौन? जिसने क्रॉस लॉ और संविधान बनाया या वह जिसने देश में आरक्षण जैसी बीमारी फैलाई.” बताया गया कि पांड्या ने ये ट्वीट 26 दिसंबर 2017 को किया था. इस ट्वीट के चर्चा में आने के बाद अधिवक्तता डीके माहिवाल ने इसके खिलाफ जोधपुर की स्पेशल कोर्ट में हलफनामा दायर किया था. इसी हलफनामे के एवज में पांड्या पर केस दर्ज किया गया था.

फर्जी अकाउंट होने के सारे सबूत दूंगा

लेकिन, अब पांड्या का कहना है कि, ”इस बात को साबित करने कि ये ट्वीट फर्जी है और इसे मैंने नहीं किया है, मैं अदालत में जरूरी सबूत जुटाउंगा. मैं इस मुद्दे को उठाउंगा कि मेरी पहचान को लेकर एक जालसाज ने ये पोस्ट किया ताकि मेरी छवि को नुकसान पहुंचे. आजकल ये एक बड़ी समस्या है जिसका सामना देश की कई जानी पहचानी हस्तियों को करना पड़ रहा है.”