भारतीय तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या (Hardil Pandya) अगले महीने शुरू होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) 2021 के दूसरे चरण के साथ टी20 विश्व कप में गेंदबाजी करने के लिए पूरी तरह तैयार हो जाएंगे। ऐसा कहना है पारस म्हाम्ब्रे का, जो श्रीलंका में सीमित ओवरों की सीरीज के दौरान भारत के गेंदबाजी कोच थे।Also Read - Ravichandran Ashwin Birthday: खुद Virat Kohli ने इस खास अंदाज में Ravichandran Ashwin को विश किया बर्थडे

म्हाम्ब्रे जो कि विश्व कप के लिहाज से हार्दिक की फिटनेस पर नजर रखे हुए हैं ने भारत-ए के गेंदबाजी कोच के रूप में काम किया है और बेंगलुरू स्थित राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (NCA) में गेंदबाजी कोच भी हैं। जहां पांड्या और अन्य भारतीय गेंदबाज रीहैब से गुजर रहे हैं। Also Read - टीम के पांचवें नंबर पर होने से फर्क नहीं पड़ता क्योंकि दूसरे चरण का प्रदर्शन ज्यादा महत्वपूर्ण होगा: तबरेज शम्सी

पारस ने कहा कि आईपीएल के तुरंत बाद अक्टूबर-नवंबर के दौरान संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में खेले जाने वाले टी20 विश्व कप की अगुवाई में पंड्या के वर्कलोज मैनेजमेंट करना महत्वपूर्ण है। Also Read - टी20 फॉर्मेट की कप्तानी छोड़ खुद का बोझ कम करना चाहता हैं विराट कोहली: एमएसके प्रसाद

पारस ने कहा, “हार्दिक के साथ, हम स्पष्ट रूप से इसे धीरे-धीरे आगे बढ़ रहे हैं। मैं ओवरों की संख्या को लेकर उस पर दबाव नहीं डाल रहा हूं। उस पर काफी नजर रखी जा रही है कि हम उसे कितना पुश करने जा रहे हैं। हमें धीरे-धीरे बिल्ड अप करना होगा। ये जानते हुए कि वो हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रहा है, उसके लिए अपने गेंदबाजी कार्यभार को बहुत अच्छी तरह से मैनेज करना महत्वपूर्ण है।”

म्हाम्ब्रे ने आगे कहा, “हम उसकी बल्लेबाजी को जानते हैं जो वो आपको प्रदान करता है। लेकिन अगर हम इसमें गेंदबाजी जोड़ते हैं, तो वो एक अलग आयाम लाता है। इस मायने में हम इस पर काम कर रहे हैं। हर कोई – ताकत और कंडीशनिंग विभाग और फिजियो – इस काम में है और हमने इस पर बातचीत की है।”

पिछले कुछ वर्षों से पीठ की चोट से परेशान दाएं हाथ के तेज गेंदबाज ऑलराउंडर गेंदबाजी करने में असमर्थता के कारण भारत के टेस्ट मैच टीम का हिस्सा नहीं हैं। हालांकि उन्होंने जुलाई में श्रीलंका में हालिया द्विपक्षीय सीमित ओवरों की सीरीज में गेंदबाजी की, लेकिन वो किसी भी मैच में अपना पूरा कोटा पूरा नहीं कर सके।

उन्होंने तीन वनडे मैचों में 14 ओवर फेंके और 48.5 की औसत से दो विकेट लिए। साथ ही एक टी20 आई में दो ओवर हार्दिक के नाम रहे।मार्च में इंग्लैंड के खिलाफ, उन्होंने पांच टी 20 मैचों में 17 ओवर फेंके थे, जिसमें तीन विकेट लिए थे और 6.94 प्रति ओवर पर रन दिए थे, जो भुवनेश्वर कुमार के बाद दोनों तरफ से दूसरा सर्वश्रेष्ठ था। वह पांच में से तीन मैचों में अपना चार ओवर का कोटा पूरा कर सके।

पांड्या ने इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे और अंतिम वनडे मैच में भी गेंदबाजी की और नौ ओवर में 5.33 पर रन प्रति ओवर देकर काफी किफायती रहे। लेकिन भारत को पूरे टी20 विश्व कप में ओवरों का पूरा कोटा डालने के लिए उसकी जरूरत होगी।

भारत के 49 साल के पूर्व तेज गेंदबाज म्हाम्ब्रे ने कहा कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) अंतत: टी20 विश्व कप में पांड्या की उपलब्धता तय करेगा। यह उनके फ्रैंचाइजी मुम्बई इंडियंस पर निर्भर करेगा कि वह उसका उपयोग कैसे करे।

म्हाम्ब्रे ने कहा, “हां, जिस तरह से मैं उसे देखता हूं और जिस तरह से मुझे लगता है, मुझे यकीन है कि वो आईपीएल में गेंदबाजी जरूर करेगा। पहला कदम आईपीएल है। शायद फ्रेंचाइजी तय करेगी कि वे उसका इस्तेमाल कैसे करेंगे।”