भारतीय टीम के ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) का मानना है कि भारतीय कप्‍तान विराट कोहली (Virat Kohli) , उपकप्‍तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) और पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) अपने करियर में इतनी बुलंदियों तक इसलिए पहुंचे क्‍योंकि वो कभी नंबर-2 नहीं बनना चाहते हैं.Also Read - अहमदाबाद के कोच गैरी कर्स्टन ने कहा; हार्दिक पांड्या कप्तान की भूमिका निभाने में सक्षम

वडोदरा क्रिकेट एसोसिएशन के अपने साथी क्रिकेटर्स से बातचीत के दौरान हार्दिक पांड्या ने कहा, “कम से कम आप में से 10 लोग भारत के लिए खेलने चाहिए. अन्‍यथा ये काफी निराशाजनक रहेगा. ये आप पर ही निर्भर करता है कि आप अगले 10 सालों में मेरे साथ खेलना चाहते हो या नहीं. ये काफी मजेदार रहेगा.” Also Read - आज भी मध्यक्रम में महेंद्र सिंह धोनी और युवराज सिंह के विकल्प नहीं ढूंढ पाई है टीम इंडिया: हरभजन सिंह

“मैंने दो दिन पहले विराट कोहली से बात की. मैंने उन्‍हें वो बात कही जो पहले कभी नहीं कही थी. मैंने उनसे पूछा कि तुम्‍हारे इतने अच्‍छे प्रदर्शन करने का कारण क्‍या है.” Also Read - अगर स्पिनर बीच के ओवरों में विकेट नहीं लेंगे, तो मैच आपके हाथ से निकल जाएगा: हरभजन सिंह

हार्दिक ने कहा विराट ने मैसेज के माध्‍यम से मुझे बताया कि जब तुम्‍हारा खेल के प्रति एटीट्यूड सही है तो सब कुछ ठीक है. आपको केवल निरंतरता बरकरार रखनी है और सही दिशा में रहते हुए नंबर-1 बनने की भूख होनी चाहिए.

भारत के लिए 11 टेस्‍ट, 54 वनडे और 40 टी20 खेल चुके हार्दिक पांड्या ने कहा, “रोहित शर्मा और महेंद्र सिंह धोनी भी दूसरे स्‍थान पर फिनिश करना पसंद नहीं करते. अगर वो सफल नहीं भी हो पाते तो उन्‍हें इससे कोई समस्‍या नहीं है क्‍योंकि सर्वश्रेष्‍ठ बनने के लिए वो फिर से प्रक्रिया शुरू कर देते हैं.”

“महेंद्र सिंह धोनी और रोहित शर्मा काफी निरंतर हैं क्‍योंकि वो कभी दूसरे स्‍थान पर नहीं रहना चाहते हैं और उन्‍हें इससे कोई समस्‍या भी नहीं है. वो फिर से नंबर-1 बनने के लिए अपना काम शुरू कर देंगे. आपको अपना सर्वश्रेष्‍ठ देने का प्रयास करना है. अगर आप एक गेंदबाज हैं तो अपना बेस्‍ट करना होगा. अगर आप ट्रेनिंग कर रहे हैं तो इसके लिए लालसा होनी चाहिए. आपको खुद से मुकाबला करना है.”