पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) अपनी दूरदर्शिता और मुश्किल में फंसे खिलाड़ियों की मदद करने के लिए जाने जाते हैं। धोनी के फैसलों ने खराब फॉर्म से जूझ रहे कई खिलाड़ियों को वापसी करने में मदद की है। मौजूदा टीम इंडिया के उप-कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) इसका उदाहरण हैं। वहीं कैप्टन कूल ने साल 2014 में करियर के एक खराब दौर से गुजर रहे विराट कोहली (Virat Kohli) को भी फॉर्म वापस हासिल करने में मदद की थी। Also Read - Hathras Gang Rape: हाथरस गैंग रेप पर विराट कोहली ने भी दी प्रतिक्रिया, बोले- ये तो...

2014 का इंग्लैंड दौरे कोहली के लिए अच्छा नहीं रहा था, जिसके बाद खराब फॉर्म का एक सिलसिला शुरू हो गया जो कुछ समय तक चला। उसी साल भारत के खिलाफ वनडे सीरीज खेलने आई श्रीलंका टीम के सीनियर खिलाड़ी दिनेश रामदीन (Dinesh Ramdin) ने बताया कि कैसे उस सीरीज पर कप्तान धोनी के एक फैसले ने कोहली को फॉर्म हासिल करने में मदद की। Also Read - मुंबई के खिलाफ Super Over में मिली जीत के बाद कप्तान विराट कोहली ने RCB की फील्डिंग को लेकर दिया बड़ा बयान

क्रिकेट डॉट कॉम से बातचीत में रामदीन ने कहा, “मुझे एक मौका याद है जब विराट से रन नहीं बन रहे थे, वो इंग्लैंड दौरे से लौटा था। हम वहां वनडे सीरीज खेलने गए थे और विराट एक या दो बार सस्ते में आउट हुआ।” Also Read - IPL के इतिहास में विराट का सबसे खराब प्रदर्शन, पहले तीन मैचों के बाद बनाए महज इतने रन

धोनी के फैसले के बारे में रामदीन ने कहा, “उसने (धोनी) उसे ड्रॉप नहीं किया। उसने कहा देखो, तीन नबंर पर खेलने के बजाय, मैं तुम्हे चार या पांच पर भेजूंगा। एक मैच में कोहली चार या पांच पर आया और शतक (कोहली ने दूसरे वनडे में 62 रनों की पारी खेली थी) लगाया। और वो अपनी फॉर्म में लौट आया।”

श्रीलंका के खिलाफ पहले वनडे में कोहली मात्र 2 रन के स्कोर पर आउट हुए। जिसके बाद कप्तान धोनी ने उनकी जगह बदलने का फैसला किया। धोनी ने कोहली को दूसरे वनडे में तीन की जगह चार नंबर पर भेजा और कोहली ने उस मैच में अर्धशतक जड़ा। उसी सीरीज के पांचवें मैच में तीन नंबर पर वापसी करते हुए विराट ने शानदार शतक बनाया।

धोनी की कप्तानी के बारे में पूर्व विंडीज क्रिकेटर ने कहा, “कभी कभा अपने खिलाड़ियों को समझना, उनका साथ ना छोड़ना अहम होता है। बाकी टीमें शायद ऐसे खिलाड़ियों को ड्रॉप कर देती, लेकिन उसने विराट का साथ दिया। मुझे लगता है कि कोहली इस खेल के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक है। इसके लिए खेल के प्रति उसके जुनून और धोनी को भी थोड़ा श्रेय दिया जाना चाहिए।”

उन्होंने कहा, “धोनी एक बेहतरीन इंसान हैं। वो हमेशा कहते हैं कि वो खेल के एक महान सेवक या एक अच्छे इंसान के तौर पर याद किए जाना चाहता हैं, ना कि मैदान पर किए कामों के लिए। मुझे लगता है कि ये अहम है, और ये उसके बारे में काफी कुछ बताता है।”

15 अगस्त 2020 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर चुके धोनी फिलहाल इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में हिस्सा लेने के लिए यूएई पहुंचे हैं।