भारत सेमीफाइनल में पाकिस्तान को 10 विकेट से रौंदकर अंडर-19 क्रिकेट विश्वकप के फाइनल में लगातार चौथी बार जगह बनाने में कामयाब रहा. इंडिया अंडर-19 टीम ने मौजूदा टूर्नामेंट में अजेय रहते हुए फाइनल का टिकट कटाया है.Also Read - टीम इंडिया में वापसी करने पर पूर्व दिग्गज शोएब अख्तर ने की दिनेश कार्तिक की तारीफ

डेब्यूटेंट पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल ने बतौर ओपनर क्रीज पर उतरने के साथ रचा इतिहास Also Read - IPL 2022- RR vs CSK: चेन्नई को 5 विकेट से हराकर टॉप 2 में पहुंचा राजस्थान रॉयल्स, क्वॉलीफायर 1 में गुजरात से भिड़ंत

जूनियर टीम इंडिया की ओर से ओपनर यशस्वी जायसवाल ने नाबाद शतक लगाया जबकि दूसरे ओपनर दिव्यांश सक्सेना ने नाबाद अर्धशतकीय पारी खेली. इस बेहतरीन प्रदर्शन को देख पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर भी टीम इंडिया की प्रशंसा करने लगे. Also Read - शोएब अख्तर जानते थे कि वह अपनी कोहनी को मोड़ते हैं और चकिंग भी करते हैं: Virender Sehwag

रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर अख्तर ने प्रियम गर्ग की कप्तानी वाली भारतीय टीम के शानदार प्रदर्शन के बाद कहा कि भारतीय क्रिकेट सुरक्षित हाथों में है.

अख्तर ने पाकिस्तान की फील्डिंग की आलोचना करते हुए कहा कि ऐसा खेलकर टीम इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने का हकदार नहीं थी.

कड़क लड़का राहुल- नाम तो सुना ही होगा, श्रेयस अय्यर… ये तुम्हारा साल है: वीरेंद्र सहवाग

अख्तर ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, ‘पाकिस्तान की अंडर-19 टीम को सेमीफाइनल में पहुंचने पर बधाई. यह एक अच्छा प्रयास था लेकिन फाइनल में पहुंचने के लिए यह काफी नहीं. पाकिस्तान ने बहुत खराब फील्डिंग की. अंडर-19 के खिलाड़ी होने के बावजूद आप फील्डिंग के दौरान छलांग नहीं लगा सकते? वे फाइनल में पहुंचने के हकदार नहीं थे. वहीं दूसरी ओर भारतीय टीम को सेमीफाइनल में जीत की बहुत-बहुत बधाई.’

उन्होंने कहा, ‘उन्होंने शानदार जीत दर्ज की. भारतीय टीम सभी प्रशंसा की हकदार है. और उन्हें यह बताया जाना चाहिए कि उस टीम में कुछ ऐसे खिलाड़ी हैं जो बेशक भविष्य में सीनियर स्तर पर भारत का प्रदर्शन कर सकते हैं. मैं यह देखकर बहुत खुश हूं कि भारतीय क्रिकेट का भविष्य बहुत सुरक्षित हाथों में है.’

उन्होंने युवा बल्लेबाज यशस्वी जयसवाल की जमकर तारीफ करते हुए कहा, ‘भारतीय खिलाड़ी जयसवाल अपना गांव छोड़कर मुंबई में क्रिकेट खेलने आए. वह डेयरी में सोते थे. वह अंडर-19 क्रिकेट में दो शतक लगा चुके हैं. वह गुजारे के लिए गोलगप्पे बेचा करते थे.’

जायसवाल ने मौजूदा टूर्नामेंट में अब तक एक शतक और तीन अर्धशतक लगाकर शीर्ष स्कोरर हैं.