पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज सलमान बट्ट (Salman Butt) ने विराट कोहली (Virat Kohli) और रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की कप्तानी को लेकर हो रही चर्चा पर अपनी राय दी है। बट्ट का कहना है कि उनके विचार से रोहित बेहतर कप्तान और स्वाभाविक लीडर हैं।Also Read - WATCH: जो रूट की नकल करने में फेल हुए विराट कोहली, माइकल वॉन ने उड़ाया मजाक

न्यूजीलैंड के खिलाफ आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में मिली हार के बाद कोहली की कप्तानी पर सवाल उठाए जा रहे हैं। फैंस इस बात से काफी नाराज हैं कि कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम अब तक एक भी आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीत पाई है। और चाहते हैं कि आगामी टी20 विश्व कप के लिए रोहित को भारतीय टीम की कमान सौंपी जाय। Also Read - IND vs ENG- आखिरी टेस्ट से पहले भारत को ढूंढने होंगे इन 5 सवालों के जवाब

इस मामले पर बात करते हुए बट्ट ने कहा, “निजी तौर पर मुझे लगता है कि रोहित शर्मा बेहतर कप्तान हैं। मैंने एशिया कप (2018) के दौरान उनकी कप्तानी को गहराई से देखा था।” Also Read - विश्व कप टीम से बाहर होने के बाद रोहित शर्मा, रिषभ पंत ने की थी मदद : जेमिमा रोड्रिगेज

उन्होंने कहा, “स्टैंड-इन कप्तान के तौर पर उन्होंने जिस तरह से काम किया, वो बहुत स्वाभाविक लग रहे थे। विराट कोहली की बात करें तो, भारत पांच साल तक शीर्ष पर था लेकिन दुख की बात है कि वो सबसे बड़ा मैच नहीं जीत सके, इसलिए लोग सवाल उठाने के लिए मजबूर हैं।”

बट के मुताबिक इतिहास केवल बड़े खिताब जीतने वाले कप्तानों को ही याद रखेगा। उन्होंने कहा, “आप एक बहुत अच्छे कप्तान हो सकते हैं लेकिन अगर आप कोई खिताब नहीं जीतते हैं, तो लोग आपको याद नहीं रखेंगे। हो सकता है कि आप एक अच्छे कप्तान हों और आपके पास अच्छी योजनाएं हों, लेकिन हो सकता है कि आपका गेंदबाज़ उस पर अमल ना कर पाए। इसलिए किस्मत को भी साथ देना होगा।”

पूर्व क्रिकेटर ने कहा, “लोग तो टूर्नामेंट जीतने वालों को ही याद करते हैं। कभी-कभी आप एक महान कप्तान नहीं होते हैं लेकिन आपकी टीम बहुत अच्छी हो सकती है और आप एक बड़ा खिताब जीत सकते हैं। इसलिए ये (खिताब) एक कप्तान को परिभाषित नहीं करता है, लेकिन दुनिया के लिए, निश्चित रूप से, एक अच्छा कप्तान वो होता है जिसने बड़ी प्रतियोगिताएं जीती हैं।”

कोहली की कप्तानी के बारे में बात करते हुए बट्ट ने कहा,
“विराट कोहली ने ना तो कोई आईसीसी खिताब जीता है और ना ही उन्होंने आईपीएल ट्रॉफी जीती है। वो एक शीर्ष श्रेणी के क्रिकेटर हैं, उनकी बॉडी लैंग्वेज बेहतरीन है और वो आक्रामक हैं। उनका ऊर्जा स्तर एक अलग स्तर पर है, और ये स्पष्ट है कि वो हर बार मैदान पर कदम रखते ही अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहते हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “लेकिन कप्तानों को शांत होना चाहिए और उग्र नहीं। हम डब्ल्यूटीसी फाइनल के दौरान सुनते रहे कि ये आग (विराट कोहली) और बर्फ (केन विलियमसन) के बीच की लड़ाई है। खिताब जीतने वाले ज्यादातर शीर्ष-श्रेणी के कप्तान मुश्किल समय में शांत रहते थे। विराट कोहली इशारों से भरे इंसान हैं। अगर वो जीत जाता, तो उसकी कोई अंत नहीं होती। परंतु…।”