ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर सफल टेस्ट डेब्यू कर स्वदेश लौटे भारतीय तेज गेंदबाज टी नटराजन (T Natrajan) को अपने गांव पहुंचने पर राजा-महाराजाओं जैसा स्वागत मिला। भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी सीरीज के आखिरी टेस्ट में डेब्यू करने वाले नटराजन का कहना है कि उन्हें अभी भारतीय क्रिकेट में कई और कीर्तिमान हासिल करने हैं।Also Read - Australian Cricket Hall of Fame: Justin Langer ‘ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट हॉल ऑफ फेम’ में शामिल, इस महिला क्रिकेट को भी सम्मान

रविवार को मीडिया को दिए बयान में नटराजन ने कहा, “ऑस्ट्रेलिया दौरा मेरे लिए सपने जैसा था। मैं और बहुत कुछ हासिल करना चाहता हूं और भारतीय टीम में बेहतर स्थिति में पहुंचना चाहता हूं। मुझे अभी और आगे जाना है।” Also Read - जिम्बाब्वे के पूर्व क्रिकेटर ने किया खुलासा- मैच फिक्स करने के लिए भारतीय बिजनेसमैन ने दिए थे 15,000 डॉलर

29 साल के गेंदबाज ने कहा, “मैं अकेले नहीं खेला था। मेरे साथ दस और खिलाड़ी थे। बात टीम की भावना की है। सभी ने अपनी भूमिका अच्छे से निभाई। मैंने भी मौका का फायदा उठाया।” Also Read - दूसरी बार आइसीसी 'महिला क्रिकेटर ऑफ द ईयर' चुनी गईं भारत की स्मृति मंधाना

सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलने वाले नटराजन यूएई में आयोजित इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन के दौरान अपनी सटीक यॉर्कर गेंदो की वजह से चर्चा में आए थे। जिसके बाद फैंस ने उन्हें ‘यॉर्कर नटराजन’ का नाम दिया।

नटराजन ने इसके लिए फैंस का दिल से शुक्रिया किया। उन्होंने कहा, “पहली बात को मैं ये खिताब मुझे देने के लिए सभी फैंस का शुक्रिया करना चाहूंगा। लोग मुझे अपने बच्चे की तरह देखते हैं। उन्होंने मुझे ये खिताब दिया है।”

गाबा टेस्ट में तीन विकेट लेने वाले नटराजन को इंग्लैंड के खिलाफ फरवरी में होने वाली टेस्ट सीरीज के पहले दो मैचों के लिए चुने गए भारतीय स्क्वाड में जगह नहीं मिली है।