मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने हाल में ऑस्ट्रेलिया पहुंचने पर युवा बल्लेबाज मार्नस लाबुशेन की तारीफ करते हुए कहा था कि उन्हें इस बल्लेबाज में अपनी झलक दिखती है. तेंदुलकर के इस बयान पर अब लाबुशेन का बयान आया है. लाबुशेन ने ‘क्रिकेट के भगवान’ के मुंह से अपनी तारीफ सुन उनका आभार व्यक्त किया है. Also Read - International Nurses Day के मौके पर Sachin Tendulkar का ट्वीट, लिखा ये इमोशनल मैसेज

बड़ी बहन की मौत के सदमे के बीच बांग्लादेशी कप्तान ने खेली कप्तानी पारी, बनाया टीम को विश्व चैंपियन Also Read - Sachin Tendulkar ने फिर बढ़ाए मदद को हाथ, कोरोना संक्रिमतों के लिए दान दिए 1 करोड़ रुपये

पिछले सप्ताह ऑस्ट्रेलिया में बुशफायर चैरिटी मैच के लिए पहुंचे तेंदुलकर ने लाबुशेन को शानदार करार देते हुए कहा था कि उन्हें इस बल्लेबाज के खेल को देखकर अपने खेल की याद आती है. Also Read - IPL नीलामी में किया गया नजरअंदाज, इस वजह से खुश हैं Marnus Labuschagne

तेंदुलकर से मिली इस तारीफ के बारे में पूछे जाने पर लाबुशेन ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया डॉट कॉम डॉट एयू से कहा, ‘यह बहुत अद्भुत है, मेरी नजर जैसे ही उस खबर पर पड़ी मैं पढ़ने के लिए आतुर हो गया. मैं जिसका अनुसरण करता हूं उससे ऐसी प्रशंसा मिलना शानदार है. मैं उनके शब्दों के लिए बहुत आभारी हूं और सच्चाई यह है कि इसे सुनने के बाद मैं स्तब्ध था.’

तेंदुलकर ने लाबुशेन के फुटवर्क की तारीफ करते हुए कहा कि यह दर्शाता है कि वह मानसिक रूप से मजबूत खिलाड़ी हैं.

IPL 2020 : कोलकाता नाइटराइडर्स ने जेम्स फोस्टर को बनाया फील्डिंग कोच, सुभादीप घोष की जगह लेंगे

उन्होंने कहा था, ‘इस खिलाड़ी में कुछ विशेष बात है. उसका फुटवर्क बिल्कुल सही है. फुटवर्क शारीरिक तौर पर नहीं, मानसिक तौर पर होता है. अगर आप सकारात्मक नहीं सोचेंगे तो आपका पैर नहीं चलेगा.’

बकौल सचिन, ‘मैं ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच लॉर्ड्स में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच को देख रहा था. जब स्टीव स्मिथ चोटिल हुए तो मैंने दूसरी पारी में लाबुशेन की बल्लेबाजी देखी. लाबुशेन को जोफ्रा आर्चर की गेंद पर चोट लगी लेकिन इसके बाद 15 मिनट तक उन्होंने जिस तरह से बल्लेबाजी की. मैंने कहा, ‘यह खिलाड़ी खास है.’

पिछले साल लाबुशेन ने टेस्ट में कुल  1104 रन बनाए थे 

25 साल के लाबुशेन ने पिछले साल 1104 रन बनाकर टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाला बल्लेबाल रहे. उन्हें स्टीव स्मिथ के चोटिल होने के बाद कनकशन विकल्प (चोटिल खिलाड़ी की जगह) के तौर पर मौका मिला था. उन्होंने हालांकि दमदार खेल से टीम में अपनी जगह पक्की की. लाबुशेन ने इस वर्ष भारत के खिलाफ वनडे इंटरनेशनल में डेब्यू किया था.