घातक कोविड-19 (Covid- 19) वायरस ने इन दिनों पूरी दुनिया की जीवनशैली बदलकर रख दी है. ऐसे में क्रिकेट भी एक नए अंदाज में खेला जा रहा है. खिलाड़ियों को इन दिनों बगैर दर्शकों के अपने खेल खेलना पड़ा रहा है और उन्हें टूर्नमेंट के दौरान सारा समय जैविक रूप से सुरक्षित माहौल (बायो सिक्योर बबल) में ही बिताना पड़ता है. कई खिलाड़ियों के लिए यह भले चिंता की बात हो सकती हैं लेकिन इंग्लैंड के स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स (Ben Stokes) के साथ ऐसा नहीं है. Also Read - India vs Australia: स्टीव स्मिथ की सफलता का है ये राज, किया खुलासा

स्टोक्स कहते हैं कि दुनिया जब महामारी से जूध रही है, तब कम से कम उनके पास यह विकल्प तो है कि वह आइसोलेशन में रहकर वह खेल खेल सकते हैं, जो उन्हें सबसे ज्यादा पसंद है. पीटीआई को दिए साक्षात्कार में दुनिया के शीर्ष ऑलराउंडर ने कोविड-19 के खतरे के बीच जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में जीवन के बारे में बात की. Also Read - Rohit Sharma की चोट को लेकर गौतम गंभीर ने तोड़ी चुप्पी, VVS Laxman ने भी जताई हैरानी

स्टोक्स ने कहा, ‘इसके साथ काफी चुनौतियां आई हैं, आपको पता है कि परिवार से दूर रहना, लंबे समय तक एक ही जगह पर रहना, एक समय के बाद यह बोरिंग हो सकता है. लेकिन सभी को समझने की जरूरत है कि सारी सहजताओं के बीच कुछ नीरसता खिलाड़ियों को काफी अन्य लोगों की तुलना में बेहतर स्थिति में रखती है.’ Also Read - LPL 2020: IPL में फ्लॉप रहे Andre Russell ने 14 गेंदों पर ठोका अर्धशतक, 5 ओवर में बने 96 रन

29 वर्षीय इस खिलाड़ी ने कहा, ‘घर में बैठने से बेहतर है कि हम जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में क्रिकेट खेलें और वह करें जो हमें पसंद है. हमें चीजों को इस नजरिए से देखने की जरूरत है, दुनिया में करोड़ों लोग हैं जो हमसे ज्यादा परेशान हैं.’

उन्होंने कहा, ‘जब हमें लगता है कि समय मुश्किल है तब उनके बारे में सोचकर चीजें थोड़ी आसान हो जाती हैं.’ जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में लंबे समय तक रहने को लेकर चिंताएं जताई गई हैं और पाकिस्तान के कोच मिसबाह उल हक ने इसके मनोवैज्ञानिक नतीजों को लेकर चेताया है. स्टोक्स ने कहा कि जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में रहने से वह स्वतंत्रता छिन जाती जिसमें रहने के खिलाड़ी आदी हैं.

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह बेहद चुनौतीपूर्ण समय है. विशेषकर तब जब चीजें उससे काफी अलग हैं जिसकी हमें इतने वर्षों से आदत है.’ स्टोक्स का कहा कि खिलाड़ी उन करोड़ों दर्शकों के ऋणी हैं, जिन्होंने इतने वर्षों में उनका समर्थन किया और खिलाड़ी अब प्रदर्शन करके इसकी भरपाई कर सकते हैं, जिसे टेलीविजन पर देखा जाए.