नई दिल्ली : आईसीसी श्रीलंका क्रिकेट में भ्रष्टाचार की गहरी जड़ों की जांच करने में लगा है लेकिन इसकी भ्रष्टाचार रोधी इकाई के अधिकारी एलेक्स मार्शल ने एक चौंकाने वाले तथ्य का खुलासा किया है कि इस तरह की भ्रष्ट गतिविधियों में शामिल ज्यादातर सट्टेबाज भारतीय हैं. Also Read - Delhi Assembly Election 2020: सट्टा बाजार में 'झाड़ू' की सफाई से 'कमल' और 'पंजा' बेहाल!

Also Read - ब्रिटेन के शाही जोड़े केट-विलियम के तीसरे बच्चे के नाम को लेकर सट्टा बाजार गर्म

इस हफ्ते के शुरू में श्रीलंका के महान खिलाड़ी सनत जयसूर्या आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी संहिता का उल्लघंन करने वाले इस द्वीपीय देश के पहले खिलाड़ी बने. हालांकि जयसूर्या पर फिक्सिंग का आरोप नहीं लगा है कि लेकिन उन्हें जांच करने वाले अधिकारियों के साथ सहयोग नहीं देने का दोषी पाया गया. Also Read - Delhi Assembly Election Results 2015 Live News Update in Hindi: Bookies also giving upper hand to AAP

PAKvsAUS: पाकिस्तान ने दिया बड़ा लक्ष्य, दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया की खराब शुरुआत

हाल में आईसीसी की एसीयू ने इंग्लैंड और श्रीलंकाई क्रिकेटरों से जुड़े सक्रिय भ्रष्ट व्यक्तियों के बारे में सूचना साझा की थी. यह पूछने पर कि क्या सारे सक्रिय सट्टेबाज स्थानीय हैं तो आईसीसी की एसीयू के महाप्रबंधक मार्शल ने कहा, ‘‘श्रीलंका में स्थानीय और भारतीय सट्टेबाज दोनों थे. लेकिन दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में सबसे ज्यादा सट्टेबाज भारतीय हैं. ’’

मार्शल का यह खुलासा हालांकि हैरानी भरा नहीं है क्योंकि पाकिस्तान के लेग स्पिनर दानिश कनेरिया ने गुरूवार को स्वीकार किया कि उन्होंने मैच फिक्स करने के लिये भारतीय सट्टेबाज अनु भट्ट से धन लिया था.