Glenn-Maxwell-of-Australia-plays-a-shot Also Read - Bangladesh vs West Indies, 1st ODI: जानें कब और कहां देखें बांग्लादेश-वेस्टइंडीज मैच की Live Streaming और Live Telecast

Also Read - एबी डीविलियर्स ने बताई 2018 में संन्‍यास की वजह, ‘इस घटना से पार पाना मुश्किल था’

क्रिकेट विश्व कप के पूल ए मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने धमाकेदार बल्लेबाज ग्लेन मैक्सवेल (102) की तूफानी शतकीय पारी की बदौलत श्रीलंका के सामने 377 रनों का पहाड़ जैसा लक्ष्य रखा है। मैक्सवेल के अलावा ऑस्ट्रेलिया की ओर से स्टीवन स्मिथ (72), माइकल क्लार्क (68) और शेन वाटसन (67) ने भी शानदार अर्धशतकीय पारी खेली। Also Read - मोहम्‍मद शमी: CWC 2015 के बाद 3 बार आया आत्‍महत्‍या का विचार, परिवार वाले रखते थे मुझपर नजर

श्रीलंका के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम की शुरुआत खराब रही और उसने 10 ओवरों में दो विकेट गंवा दिए और सिर्फ 49 रन ही बना पाए। आस्ट्रेलिया को पहला झटका डेविड वार्नर के रूप में लगा जो मलिंगा की गेंद पर सिर्फ 9 रन बनाकर आउट हो गए। वही सीकुगे प्रसन्ना ने एरोन फिंच (24) को आउट कर ऑस्ट्रेलिया को दूसरा झटका दिया। यह भी पढ़े-विश्व कप 2015 : न्यूजीलैंड की लगातार पांचवीं जीत

इसके बाद स्टीवन स्मिथ (72 रन) और माइकल क्लार्क (68 रन) ने 134 रन की साझेदारी की, लेकिन इन दोनों बल्लेबाजों के आउट होते ही कंगारू टीम फिर संकट में गई। मैक्सवेल ने 102 रन बनाकर लसिथ मलिंगा की गेंद पर अपना कैच थिसारा परेरा को थमा दिया।

मैक्सवेल के आउट होने के बाद बल्लेबाजी करने उतरे जेम्स फॉल्कनर बिना खाता खोले रन बनाए आउट हो गए। उसके बाद शेन वाटसन और ब्रैड हैडिन ने ऑस्ट्रेलियाई पारी को संभाला, लेकिन शेन वाटसन भी परेरा की गेंद पर आउट हो गए। इन खिलाडियों की मेहनत के बूते ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को इतना बड़ा लक्ष्य दिया। यह भी पढ़े-विश्व कप 2015 : आयरलैंड की जिम्बाब्वे पर 5 रनों से रोमांचक जीत

गेंदबाजी की बात करें तो श्रीलंकाई गेंदबाज ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के सामने नाकाम नजर आए, हालांकि बैटिंग पावर प्ले में स्मिथ और क्लार्क के महत्वपूर्ण विकेट चटकाए, लेकिए वे मैक्सवेल को समय पर रोकने में विफल रहे। मैक्सवेल और वॉटसन की साझेदारी को जब तक श्रीलंकाई गेंदबाजों ने तोड़ा तब तक रनों का पहाड़ लग चुका था। मलिंगा और परेरा ने 2-2 विकेट हासिल किया, जबकि मैथ्यूज, प्रसन्ना और दिलशान को एक-एक सफलता मिली।