नई दिल्ली : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के विवाद निवारण पैनल ने मंगलवार को बीसीसीआई के खिलाफ पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के मुआवजे को दावे को खारिज कर दिया. पीसीबी ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड पर द्विपक्षीय श्रृंखला से जुड़े सहमति पत्र (एमओयू) का सम्मान नहीं करने का आरोप लगाया था. आईसीसी ने अपने आधिकारिक ट्विटर पोस्ट पर लिखा, ‘‘विवाद निवारण पैनल ने बीसीसीआई के खिलाफ पाकिस्तान के मामले को खारिज कर दिया है.’’ Also Read - क्रिकेट के दूर रहना पृथ्वी शॉ के लिए सजा जैसा; IPL को याद कर रहा है ये भारतीय बल्लेबाज

पीसीबी ने बीसीसीआई पर एमओयू का सम्मान नहीं करने का आरोप लगाते हुए 447 करोड़ रुपये के मुआवजे की मांग की थी. इस एमओयू के तहत भारत को 2015 से 2023 के बीच पाकिस्तान से छह द्विपक्षीय श्रृंखलाएं खेली थी. Also Read - शोएब अख्‍तर की पेशकश, कोरोनावायरस से जंग के लिए आयोजित हो भारत-पाक सीरीज

कोहली ने ऑस्ट्रेलिया को बताया वर्ल्ड क्लास टीम, स्मिथ-वॉर्नर के बिना भी आसान नहीं होगा हराना Also Read - हरभजन सिंह चाहते हैं कि आईपीएल का आयोजन हो लेकिन.....

बीसीसीआई ने इसके जवाब में कहा था कि वह इस कथित एमओयू को मानने के लिए बाध्य नहीं है और यह कोई मायने नहीं रखता क्योंकि पाकिस्तान ने भारत द्वारा सुझाए आईसीसी के राजस्व मॉडल पर समर्थन की प्रतिबद्धता पूरी नहीं की.

आईसीसी ने इसके बाद पीसीबी के मुआवजे दावे पर विचार के लिए तीन सदस्यीय विवाद निवारण समिति गठित की. इस मामले की सुनवाई एक से तीन अक्टूबर तक यहां आईसीसी के मुख्यालय में हुई.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ T20 सीरीज में रोहित शर्मा तोड़ेंगे मार्टिन गुप्टिल का वर्ल्ड रिकॉर्ड

पूर्व विदेशी मंत्री सलमान खुर्शीद उन व्यक्तियों में शामिल रहे जिनसे सुनवाई के दौरान जिरह हुई. बीसीसीआई के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार खुर्शीद ने सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय क्रिकेट खेलने के इनकार करने के भारत के रुख को उचित ठहराया था.