आईसीसी अंडर-19 विश्‍व कप 2020 (ICC Under-19 World Cup 2020 ) के सेमीफाइनल में भारत से शिकस्‍त (India A vs Australia A) झेलने के बाद बाहर हुई ऑस्‍ट्रेलियाई टीम के लिए गुरुवार को एक बुरी खबर आई. क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया ने टीम में शामिल पांच खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है. यह फैसला भारत के खिलाफ मैच से पहले इन खिलाड़ियों द्वारा सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी के मामले में लिया गया है. Also Read - प्रियम गर्ग की खरी-खरी, 'मैच जीतने के बाद बांग्‍लादेशी खिलाड़ियों का व्‍यवहार...'

पढ़ें:- India vs New Zealand, 4th T20I, Dream 11 Prediction: क्लीन स्वीप से बचने उतरेगी न्यूजीलैंड टीम Also Read - ICC U19 World Cup: कप्‍तान प्रियम गर्ग ने फाइनल में हार के लिए इसे ठहराया जिम्‍मेदार

इंग्‍लैंड के खिलाफ जीत के बाद ऑस्‍ट्रेलियाई टीम ने क्‍वाटर फाइनल में प्रवेश किया था. मैच जीतने के बाद बल्‍लेबाज जेक फ्रेजर ने अपने इंस्‍टाग्राम पर एक फोटो शेयर की थी. इस फोटो के साथ उन्‍होंने लिखा था कि क्‍वार्टर फाइनल हम आ रहे हैं. इस पोस्‍ट पर ऑस्‍ट्रेलिया के पांच खिलाड़ियों ने भारतीयाें को टार्गेट करते हुए आपत्तिजनक कमेंट किए थे. Also Read - ICC U19 CWC 2020: न्‍यूजीलैंड को हराकर पहली बार फाइनल में पहुंचा बांग्‍लादेश, भारत से होगा खिताबी मुकाबला

क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया के इंटीग्रिटी चीफ सीन कैरोल ने ईएसपीएन क्रिकइंफो से बातचीत के दौरान कहा गया, “खिलाड़ियों द्वारा इस्‍तेमाल की गई भाषा के कुछ शब्‍द इंग्लिश नहीं बोलने वाले लोगों के खिलाफ अभद्र पाए गए. हमें इस बात का दुख है कि हमारी अंडर-19 टीम के कुछ खिलाड़ी सोशल मीडिया पर इस तरह की भाषा का प्रयोग करने के दोषी पाए गए हैं. मामला संज्ञान में आने के तुंरत बाद हमाने आईसीसी को इसकी जानकारी भी दे दी है.”

पढ़ें:- इंजरी से परेशान हुई न्यूजीलैंड; भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में इस युवा खिलाड़ी को दिया मौका

उन्‍होंने कहा, “मेरी खिलाड़ियों से आज सुबह बात हुई है. मैंने उन्‍हें यह साफ कर दिया है कि इस भाषा का प्रयोग समाज में स्‍वीकार्य नहीं है. एक ऑस्‍ट्रेलियाई खिलाड़ी होने के नाते जिस परंपरा का पालन उन्‍हें करना चाहिए था वो नहीं किया गया है. खिलाड़ी अपनी गलती स्‍वीकार करते हुए अपने पद से हट गए हैं.”

उन्‍होंने आगे कहा, “टीम के साउथ अफ्रीका से देश लौटने के बाद क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया इन खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रही है. अधिकांश खिलाड़ी नाबालिग हैं. उनके माता पिता विश्‍व कप के दौरान उनके साथ नहीं थे. इस संबंध में हम खिलाड़ियों को बखूबी ट्रेनिंग भी देते हैं.”