खिताब की प्रबल दावेदार भारतीय क्रिकेट टीम आईसीसी अंडर-19 वर्ल्ड कप के क्वार्टर फाइनल में मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगी. मौजूदा चैंपियन भारत ने लीग स्टेज पर अपने तीनों मुकाबले जीतकर नॉकआउट दौर में प्रवेश किया है जबकि 3 बार की विजेता ऑस्ट्रेलिया की टीम ने शुरुआती मैच विंडीज के खिलाफ गंवाने के बाद बाकी बचे दोनों मैच जीतकर जबरदस्त वापसी की है. Also Read - अश्विन को याद आए ऑस्ट्रेलिया में बिताए वो 'बुरे दिन', बोले- ताजा हवा के बिना कमरे में रहना मुश्किल था

ICC U19 World Cup 2020: सेमीफाइनल में भारत और पाकिस्तान में हो सकती है भिड़ंत, ये है समीकरण Also Read - मेलबर्न टेस्‍ट के बाद Virat Kohli ने किया था Ravichandran Ashwin को मैसेज, कही थी ये बात

ऐसे में मुकाबला रोमांचक होने की उम्मीद है. प्रियम गर्ग की अगुआई वाली टीम इस समय बेहतरीन लय में है. बल्लेबाजी में कप्तान सहित यशस्वी जायसवाल, दिव्यांश सक्सेना और सिद्धेश वीर का बल्ला जमकर बोल रहा है वहीं गेंदबाजी में स्पिनर रवि बिश्नोई ने अपनी फिरकी की जाल में अब तक 10 शिकार फंसाए हैं. Also Read - भारत से टेस्ट सीरीज हारकर भी Steve Smith को मिला यह बड़ा अवॉर्ड

जायसवाल 3 मैचों में 145.00 की औसत से कुल 145 रन बना चुके हैं वहीं दिव्यांश के बल्ले से 2 मैचों में 75 रन निकले हैं जिसमें नाबाद अर्धशतक भी शामिल है.

10 विकेट लेकर रवि बिश्नोई दूसरे नंबर पर हैं

19 साल के रवि बिश्नोई 3 मैचों में 10 विकेट ले चुके हैं. मौजूदा टूर्नामेंट में सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले गेंदबाजों में बिश्नोई दूसरे नंबर पर हैं. उनका बेस्ट गेंदबाजी प्रदर्शन 5 रन देकर 4 विकेट है. कार्तिक त्यागी के नाम इतने ही मैचों में 5 विकेट दर्ज है.

भारत का पलड़ा भारी

साल 2013 के बाद से दोनों टीमों के बीच अब तक 5 मैच खेले हैं जिनमें से 4 मैच भारत ने जीते हैं जबकि 1 मैच वर्षा की भेंट चढ़ गया था.

ऑस्ट्रेलियाई तनवीर सांघा और रवि बिश्नोई पर होगी नजर

इस मैच में ऑस्ट्रेलिया के लेग स्पिनर तनवीर सांघा और भारत के लेग ब्रेक गेंदबाज रवि बिश्नोई के बीच रोमांचक जंग देखने को मिल सकती है. दोनों गेंदबाजों मौजूदा टूर्नामेंट में एक समान 10-10 शिकार किए हैं. सांघा की बेस्ट गेंदबाजी 14 रन देकर 5 विकेट है.

मैक्ग्रा बोले-तब सचिन तेंदुलकर को LBW की बजाय SBW आउट दिया जाना चाहिए था

भारत ने श्रीलंका को 90 रन से हराकर विश्व कप 2020 में अपने अभियान की शुरुआत की थी जबकि दूसरे मैच में भारत के जूनियर खिलाड़ियों ने जापान को 41 रन पर ढेर कर पांचवें ओवर में ही बिना किसी नुकसान के लक्ष्य हासिल कर लिया था. तीसरे और अंतिम लीग मैच में टीम इंडिया ने न्यूजीलैड को वर्षा से बाधित मैच में डकवर्थ लुइस नियम के तहत 44 रन से पराजित किया था.