दक्षिण अफ्रीका में जारी अंडर-19 विश्‍व कप (ICC Under-19 World Cup 2020) के सेमीफाइनल मुकाबले में भारतीय टीम ने मंगलवार को पाकिस्‍तान को (India Under-19 vs Pakistan Under-19) 10 विकेट से हराकर फाइनल में प्रवेश किया. डिफेंडिंग चैंपियन भारत ने लगातार तीसरी बार इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में जगह बनाई है. मैच के बाद कप्‍तान प्रियम गर्ग (Priyam Garg) ने कहा कि अब फाइनल की बारी है. कप घर लाने की तरफ हमने एक कदम और आगे बढ़ा दिया है.Also Read - IPL 2022- RR vs CSK: चेन्नई को 5 विकेट से हराकर टॉप 2 में पहुंचा राजस्थान रॉयल्स, क्वॉलीफायर 1 में गुजरात से भिड़ंत

पढ़ें:- पाकिस्‍तान को 10 विकेट से हराकर भारत ने बनाई अंडर-19 विश्‍व कप के फाइनल में जगह Also Read - Highlights MI vs SRH IPL 2022: बेहद करीब आकर भी हारी मुंबई, हैदराबाद को मिली तीन रन से जीत

भारतीय अंडर-19 टीम अबतक सात बार जूनियर विश्‍व कप का फाइनल खेल चुकी है. प्रियम गर्ग ने कहा, ‘‘जब हम यहां खेलने आए थे तो हमने विश्‍व कप लाने की दिशा में पहला कदम बढ़ाया था. मैं चाहता हूं कि टीम वही प्रक्रिया फाइनल मैच में भी दोहराएं जो हम अब तक दोहराते आ रहे हैं. हमें फाइनल को एक अन्य मैच की तरह खेलना होगा.’’ Also Read - प्लेऑफ के करीब राजस्थान रॉयल्स, दर्ज की सीजन की 8वीं जीत

फाइनल मुकाबले के दौरान भारतीय टीम ने गेंदबाज सुशांत मिश्रा (तीन विकेट) और कार्तिक त्यागी (दो विकेट) और रवि बिशनोई (दो विकेट) ने शानदार प्रदर्शन कर पाकिस्‍तान को 172 रन पर ऑलआउट करने में अहम भूमिका निभाई थी.

पढ़ें:- पहले वनडे के लिए भारतीय टीम में 5 बदलाव, पंत, सैनी, चहल, शिवम, मनीष पांडे प्‍लेइंग इलेवन से बाहर

कप्‍तान ने कहा, “यह टूर्नामेंट का सर्वश्रेष्ठ आक्रमण है क्योंकि हमारे सभी तेज गेंदबाज नियमित रूप से 140 किमी प्रति घंटा से अधिक की गति से गेंदबाजी कर सकते हैं. स्पिनर भी अच्छी लाइन और लेंथ के साथ गेंदबाजी कर रहे हैं.’’

शतकवीर यशस्‍वी जायसवाल की तारीफ करते हुए प्रियम गर्ग ने कहा, ‘‘यह पहली बार नहीं है जब यशस्‍वी और दिव्‍यांश ने मिलकर ऐसा प्रदर्शन किया हो. दोनों के बीच अच्छा सामंजस्य है जिससे विकेटों के बीच उनकी दौड़ अच्छी है. वे काफी अधिक एक साथ खेलते हैं इसलिए एक दूसरे की मदद करते हैं.’’

सेमीफाइनल में यशस्वी जायसवाल 105(113) और दिव्यांश सक्सेना 59(99) के बीच पहले विकेट के लिए बनी 176 रन की अटूट साझेदारी के दम पर ही भारत ने 10 विकेट से बड़ी जीत दर्ज की है.