नार्थ साउंड: अनुभवी मिताली राज को अहम मुकाबले में बाहर रखना और बाकी बल्लेबाजों की बुरी तरह नाकामी भारत पर भारी पड़ी और उसका पहली बार आईसीसी महिला विश्व टी20 चैंपियन बनने का सपना सेमीफाइनल में यहां इंग्लैंड के हाथों आठ विकेट की करारी हार के साथ ही टूट गया. इंग्लैंड फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगा जिसने एक अन्य सेमीफाइनल में मेजबान और पिछली बार के विजेता वेस्टइंडीज को 71 रन से हराया. भारत ने अपनी सबसे अधिक अनुभवी बल्लेबाज मिताली राज को बाहर रखने का फैसला किया जिस पर निश्चित तौर पर सवाल उठेंगे क्योंकि भारत ने अपने आखिरी आठ विकेट केवल 24 रन के अंदर गंवाए अैर उसकी पूरी टीम 19.3 ओवर में 112 रन पर ढेर हो गयी.

टीम इंडिया के प्लेइंग XI में हो सकता है बदलाव, दूसरे T20 में चहल की वापसी संभव

इंग्लैंड के सामने आसान लक्ष्य था. एमी जोन्स (45 गेंदों पर नाबाद 53) और नताली साइवर (40 गेंदों पर नाबाद 52) ने तीसरे विकेट के लिए 92 रन की अटूट साझेदारी करके मैच को एकतरफा बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. इंग्लैंड ने 17.1 ओवर में दो विकेट पर 116 रन बनाए. एक बार फिर से भारतीय महिलाएं बड़े मैच के दौरान अपना जुनून और जज्बा दिखाने में नाकाम रही. पिछले साल भारतीय टीम को 50 ओवरों के विश्व कप के फाइनल में इंग्लैंड से और इस साल एशिया कप टी-20 फाइनल में बांग्लादेश से भी हार का सामना करना पड़ा था.

Icc women’s t-20 world cup 2018: सेमीफाइनल में भारत का सफर खत्म, इंग्लैंड ने आठ विकेट से हराया

भारत ने गयाना के प्रोविडेन्स में लीग चरण के अपने सभी मैच जीते थे लेकिन उसकी बल्लेबाज सर विवियन रिचर्ड्स स्टेडियम की अलग तरह की पिच से सामंजस्य नहीं बिठा पायी. भारत की सात बल्लेबाज दोहरे अंक में भी नहीं पहुंची. ऐसे में टी20 अंतरराष्ट्रीय में सर्वाधिक रन बनाने वाली मिताली को बाहर करने का फैसला साहसिक नहीं बल्कि आत्मघाती साबित हुआ. यह फैसला उसे अगले कई दिनों तक सालता रहेगा और कोच रमेश पोवार और कप्तान हरमनप्रीत कौर को इससे जुड़े सवालों से जूझना पड़ेगा.

भारत-ऑस्ट्रेलिया दूसरा T20 मुकाबला आज, मेलबर्न में हिसाब बराबर करने उतरेगा भारत

विकेट धीमी गति के गेंदबाजों के अनुकूल था. गेंद अच्छी तरह से बल्ले पर नहीं आ रही थी और ऐसे में इंग्लैंड की गेंदबाजों ने कहर बरपाया. क्रिस्टी गार्डन (20 रन देकर दो), कप्तान हीथर नाइट (नौ रन देकर तीन) और सोफी एक्लेस्टोन (22 रन देकर दो) ने भारत को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाया. जब भारतीयों की बारी आयी तो उसकी गेंदबाज पूरी तरह नाकाम रही. भारतीय बल्लेबाज विकेट के मिजाज को ही नहीं समझ पाए. उन्होंने स्ट्राइक रोटेट करने के बजाय लंबे शाट खेलने पर ध्यान दिया. जब जोन्स और साइवर खेल रही थी तो यही रणनीति अपनायी और आसानी से अपनी टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया.

जोन्स ने 47 गेंदों की अपनी पारी में तीन चौके और एक छक्का लगाया जबकि साइवर ने 38 गेंदें खेली और पांच चौके लगाये. इन दोनों ने टैमी ब्यूमोंट (एक) और डेनिली वैट (आठ) के जल्दी आउट होने के बाद परिस्थितियों के अनुसार बल्लेबाजी की. भारत की तरफ से दीप्ति शर्मा और राधा यादव ने एक एक विकेट लिया.

(इनपुट-भाषा)