ICC World Cup Final 2019 : पिछले साल इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच वर्ल्ड कप फाइनल 2019 मुकाबला बेहद रोमांचक रहा. इंग्लैंड पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनने में सफल रहा. इंग्लैंड की वनडे विश्व कप में खिताबी जीत के एक साल पूरा होने पर कप्तान इयोन मोर्गन ने न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए फाइनल के उस क्षण को याद किया जब उन्हें लगा था कि अब उनकी टीम नहीं जीत सकी. Also Read - इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट से पहले पाक कप्तान अजहर अली ने दोहराई जेसन होल्डर की गलती

इंग्लैंड ने 12 महीने पहले आज के ही दिन न्यूजीलैंड को बाउंड्री की गिनती के आधार पर हराकर 50 ओवरों का विश्व कप जीता था. दोनों टीमों के बीच मैच टाई रहा था और इसके बाद सुपर ओवर में स्कोर बराबर रहा जिसके बाद बाउंड्री की गिनती के आधार पर इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया. यह निश्चित तौर पर विश्व कप इतिहास के सबसे रोमांचक फाइनल में से एक था. Also Read - England vs Ireland 3rd ODI: MS Dhoni की 'बादशाहत' खत्म, इयोन मोर्गन बने नए 'Sixer King'

‘मुझे याद है कि गेंद हवा में लहरा रही थी ‘ Also Read - England vs Pakistan 1st Test Predicted Playing XI : मैनचेस्टर टेस्ट में ऐसा हो सकता है ENG vs PAK का प्लेइंग XI, बारिश डाल सकती है खलल

मोर्गन ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो से कहा, ‘केवल एक बार कुछ सेकेंड के लिए ऐसा समय आया जब मुझे अपनी जीत को लेकर संदेह हुआ. जिम्मी नीशाम तब बेन (स्टोक्स) को गेंदबाजी कर रहा था. उसने धीमी गेंद की. बेन ने उसे  लॉन्गऑन पर खेला और मुझे याद है कि गेंद हवा में लहरा रही थी.’

उन्होंने कहा, ‘गेंद सीधे जाने के बाद ऊपर चली गई और एक क्षण के लिए मुझे लगा कि बेन आउट हुआ तो हम गए. हमें अब भी एक ओवर में 15 रन चाहिए. तब मुझे सेकेंड भर के लिए लगा कि अब हम जीत नहीं सकते.’

बाउंड्री के आधार पर इंग्लैंड ने मारी बाजी 

न्यूजीलैंड ने फाइनल में आठ विकेट पर 241 रन का स्कोर बनाया और इसके बाद इंग्लैंड को भी इसी स्कोर पर आउट कर दिया. इससे मैच सुपर ओवर तक खिंच गया. सुपर ओवर में दोनों टीमों ने समान रन बनाए. लेकिन इंग्लैंड ने मैच में 26 बाउंड्री लगाई थी और उसे न्यूजीलैंड (17 बाउंड्री) पर विजेता घोषित किया गया.

वनडे क्रिकेट में 236 मैचों में 7368 रन बनाने वाले मोर्गन ने कहा कि विश्व कप फाइनल असल में क्रिकेट से बड़ा था. कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान तीन बार फाइनल मैच देख चुके मोर्गन ने कहा, ‘फाइनल वास्तव में क्रिकेट से बड़ा था.’